ट्रेन में पटना से इंदौर ला रहे थे बालश्रमिक, एसडीएम ने स्टेशन पर पकड़ा

Indore, Madhya Pradesh, India
 ट्रेन में पटना से इंदौर ला रहे थे बालश्रमिक, एसडीएम ने स्टेशन पर पकड़ा

ट्रेन के इंदौर स्टेशन पहुंचते ही एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव और श्रम विभाग के अधिकारियों ने बोगी पर धावा बोल दिया और 14 बाल श्रमिकों और 51 मजदूरों को पकड़ा गया।


इंदौर. बैग कारखाने में काम करने के लिए पटना-इंदौर ट्रेन से लाए जा रहे 14 बाल श्रमिक और 51 वयस्क मजदूरों को प्रशासन ने छापामार कार्रवाई कर रेलवे स्टेशन पर उतरते ही पकड़ लिया।
बाल श्रमिकों को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया जाएगा। चाइल्ड लाइन को सूचना मिली थी कि शनिवार को पटना-इंदौर ट्रेन से 200 बाल श्रमिकों को काम करवाने के लिए इंदौर लाया जा रहा है। इस पर चाइल्ड लाइन सदस्यों सहित प्रशासन की टीम रेलवे स्टेशन पर तैनात हो गई। ट्रेन के इंदौर स्टेशन पहुंचते ही एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव और श्रम विभाग के अधिकारियों ने बोगी पर धावा बोल दिया और 14 बाल श्रमिकों और 51 मजदूरों को पकड़ा गया।

narendra-modi-initiative-for-villages-electricity-facility-1487196/" target="_blank">यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी ने साकार किया गांधीजी का सपना, पहली बार 12117 गांवों में पहुंची सुविधा

पूछताछ के बाद पता लगा कि कुछ बच्चों को तो वयस्क मजदूर अपने साथ काम करने के लिए लाए थे। सभी से बात कर एसडीएम ने वयस्क मजदूरों को कलेक्टर गाइड लाइन पर मिलने वाली मजदूरी की जानकारी दी और बाल श्रमिकों से काम नहीं करवाने की सलाह देकर छोड़ दिया। शेष बाल श्रमिकों को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश करने के बाद छोड़ा जाएगा।

Interstate gang of Child Labour arrested by indore

सूट का काम करने लाए साथ
बिहार के रखसोद गांव के नागेश्वर पणित ने बताया कि जूना रिसाला में सूट बनाने के कारखाने में काम करता हूं। वह अपने साथ तीन बाल श्रमिक को लाया था। मूर्तिया के मुसाएब हबारी ने बताया कि मुझे राजबाड़ा पर काम करने के जिन्होंने बुलाया है, वे लेने के लिए रेलवे स्टेशन पर आने वाले है। 150 रुपए रोज देने के साथ ही खाने-पीने की व्यवस्था भी करेंगे। सिसवाबजा टोला के मनोज पणित ने बताया कि पहली बार वह काम के लिए इंदौर आया है। पढ़ाई छोड़ चुका है। उसे बैग के कारखाने में काम करने के लिए बुलाया था।Interstate gang of Child Labour arrested by indore

सभी बच्चों की जन्म तारीख एक जनवरी
जांच में तथ्य सामने आया कि सभी 14 बच्चों के आधार कार्ड में उनकी जन्म तारीख एक जनवरी ही दर्ज है। पकड़े गए वयस्कों में से भी कई की जन्म तारीख एक जनवरी ही दर्ज है। एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव ने इनकी जांच करने की बात कही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned