मकर संक्रांति में जानिए पांरपरिक खेलों में छिपा सेहत का राज और हो जाइए फिट

Indore, Madhya Pradesh, India
मकर संक्रांति में जानिए पांरपरिक खेलों में छिपा सेहत का राज और हो जाइए फिट

मकर संक्रांति पर आइए जानते उन खेलों का महत्व जिनसे अनजान है आज की पीढ़ी। पढ़िए आखिर क्या कहते हैं डॉक्टर...

इंदौर. आज मकर संक्रांति है। यह पर्व हमें पांरपरिक खेलों की याद भी दिलाता है। आज आधुनिक दौर में पुराने खेल खो से गए हैं। बच्चे कंप्यूटर-स्मार्टफोन पर तो गेम्स खेलते रहते हैं, लेकिन इन खेलों से अंजान है। संक्रांति के मौके पर हम कुछ खेलों के बारे में बता रहे हैं, जिनमें सेहत के राज छिपे हुए हैं।

पंतगबाजी
पंतगबाजी के लिए आपको एक पतंग, मांझा या धागे से भरी चकरी के साथ खुले स्थान की जरूरत है जहां से आसमान में दूर तक देख सकें। इसके बाद जरूरत है हवा के बहाव को भांप कर ढील देने और घसीट मारने की कला समझ कर पेंच लड़ाने की।

बेनीफिट्स : पंतगबाजी से आंख का माइंड और हाथ से कोऑर्डिनेशन मजबूत होता है। इसके साथ ही डिसीजन लेने की क्षमता बढ़ती है। यह खेल हमें डिजास्टर मैनेजमेंट का भी पाठ पढ़ता है। इसके साथ ही हार को स्वीकार कर नई तैयारी के साथ मैदान में उतरने की सीख देता है।


indian games


गिल्ली डंडा
गिल्ली डंडा सामान्यत: एक लंबी बेलनाकार लकड़ी से खेला जाता है। इसी तरह की छोटी बेलनाकार लकड़ी को गिल्ली कहते हैं जो किनारों से नुकीली होती है। गिल्ली को जमीन पर रख डंडे से किनारों पर मारते हैं जिससे गिल्ली हवा में उछलती है। गिल्ली को जमीन पर गिरने से पहले फिर डंडे से मारते हैं, जो खिलाड़ी सबसे ज्यादा दूर गिल्ली पहुंचाता है वह विजयी होता है। यदि विपक्षी खिलाड़ी गिल्ली को हवा में पकड़ लेता है तो मारने वाला खिलाड़ी हार जाता है।

बेनीफिट्स : गिल्ली डंडे में शामिल खिलाडिय़ों को काफी दौड़-भाग की जरूरत होती है। इसमें आंख के इशारों पर डंडे से गिल्ली पर शॉट लगाते हैं, ऐसे में आंख और हाथ का कोआर्डिनेशन मजबूत होता है। इससे टीम वर्क की प्रेरणा मिलती है।



खो-खो
खोदो खंभों के बीच आठ बराबर भागों में दूरी विभाजित कर दो टीम के ९-९ खिलाड़ी एक-दूसरे की विपरित दिशा में मुंह करके बैठ जाते हैं। दोनों टीम को एक निर्धारित समय दिया जाता है। दोनों टीम से एक-एक खिलाड़ी खड़ा होता है और और एक-दूसरे का पीछा करता है। खेल में चार परियां होती हैं। दो दौडऩे और दो छूने की।

बेनीफिट्स : इस खेल में सबसे इम्पॉर्टेंट प्रेजेंस ऑफ माइंड और टीम स्पिरिट होती है। खिलाडिय़ों के बीच कोऑर्डिनेशन जीत दिलाने में अहम साबित होता है। इसमें काफी दौडऩे की जरूरत पड़ती है जिससे बॉडी का स्टेमिना बढ़ता है।

indian games


कबड्डी
इस खेल में अंक पाने के लिए एक टीम का खिलाड़ी (रेडर) विपक्षी पाले में जाकर खिलाडिय़ों को छूने का प्रयास करता है। इस दौरान विपक्षी टीम के खिलाड़ी (स्टॉपर) उसे अपने पाले में पकड़कर वापस जाने से रोकते हैं। अगर वे सफल होते हैं तो उनकी टीम को एक अंक मिलता है, लेकिन रेडर किसी स्टापर को छूकर अपने पाले में चला जाता है तो उसकी टीम को एक अंक मिल जाता। जिस स्टापर को उसने छुआ उसे बाहर जाना पड़ता है।

बेनीफिट्स : यह फिजिकल एक्टिविटी के साथ माइंड गेम भी है। इसमें खिलाड़ी को सांस रोकने की प्रैक्टिस के साथ, सामने वाले के माइंड को रीड कर उसके अगले कदम को समझ उसे आउट करने का हुनर सीखते हैं।


रस्साकशी
इस खेल में दो टीमें होती है। दोनों टीमों के बीच एक लाइन खींची जाती है और सभी प्रतियोगी रस्सी के सहारे सामने वाली टीम को अपनी ताकत के बल पर लाइन की दूसरी तरफ लाने का प्रयास करते हैं।

बेनीफिट्स : यह टीम गेम है जो कि कॉर्डिनेशन और लीडरशिप सिखाता है। इसके साथ ही रस्सी को खींचने और पकडऩे से हाथों की पॉवर बढ़ती होती है।

indian games


पर्सनॉलिटी भी होती है डवलप
आज बच्चे इनडोर गेम्स खेलना ही पसंद करते हैं। पूरा दिन मोबाइल, कम्प्यूटर और टीवी में लगे होने से उनकी हेल्थ पर निगेटिव असर नजर आ रहा है। उनकी आंखें छोटी उम्र से ही कमजोर होने लगी है। ६ से १५ साल के ३० प्रतिशत बच्चे ओबेसिटी का शिकार हो रहे हैं। ओबेसिटी अकेले ही १५ बीमारियों का घर है। बच्चों को रोज कम से कम एक घंटा अलग-अलग पांरपरिक खेलों को देना चाहिए। यह हेल्दी रखने के साथ पर्सनॉलिटी भी डवलप करेंगे।

डॉ. शरद थोरा, पीडिएट्रिशियन

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned