रानीपुरा अग्निकांड का चौथा दिन.....लसूडिय़ा में बारूद का गोदाम मिला तो चौंके अफसर जाने क्यों 

Indore, Madhya Pradesh, India
रानीपुरा अग्निकांड का चौथा दिन.....लसूडिय़ा में बारूद का गोदाम मिला तो चौंके अफसर जाने क्यों 

जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई, अनुमति से ज्यादा पटाखों का कर रहा था संग्रहण, गोदाम को किया सील  

इंदौर. रानीपुरा अग्निकांड के चौथे दिन शुक्रवार को कई इलाकों में डाली गई दबिश के दौरान प्रशासन की कई कमियां सामने आई। जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई के दौरान लसूडिय़ा में मिला बड़ा पटाखा गोदाम मिला। 

यहां बड़ी मात्रा में पटाखे रखे थे। अनुमति से ज्यादा पटाखा मिलने पर प्रशासन की टीम ने सख्त कार्रवाई करते हुए गोदाम  सील कर दिया। 

ranipura fire


सके पूर्व गुरुवार को आजाद नगर स्थित एक घर के किचन में 50 डिब्बे पटाखे रखे मिले। जिस वक्त टीम पहुंची, पटाखों के पास ही रसोई गैस पर खाना बन रहा था। इसी तरह पालदा में पटाखा गोदामों पर कार्रवाई के दौरान पेट्रोल पंप से महज 50 मीटर की दूरी पर बारूद का गोदाम पकड़ में आया, जहां नियमों को ताक पर रखा गया था। आजाद नगर स्थित मकान मालिक बलभद्र हार्डिया ने बताया, उनके पास दो अस्थाई दुकानों के लाइसेंस है। यह दुकानें दीपावली के समय लगती हैं। बचा माल घर में रखा है। पुलिस ने गुरुवार को आजाद नगर मूसाखेड़ी क्षेत्र से 700 किलो पटाखे जब्त किए।  




यहां भी ढीलपोल : 7 दिन बाद नपेंगे अफसर
रानीपुरा में पटाखा दुकान में लगी आग से हुए 7 लोगों की मौत के बाद कलेक्टर ने एडीएम शमाउदïदीन को मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए है। वे जांच में हादसे के कारणों का खुलासा करने के साथ ही दुकानें बंद करने के आदेश के बाद अफसरों की कार्रवाई के आधार पर उनकी जिम्मेदारी भी तय करेंगे। कलेक्टर ने 7 दिन में जांच रिपोर्ट मांगी है, यानी जिम्मेदार अफसरों पर इसके बाद गाज गिरेगी। 

नया खुलासा : शार्ट सर्किट से नहीं लगी थी आग  
भोपाल से आए पेट्रोलियम विस्फोटक संगठन के डिप्टी नियंत्रक राजेंद्र रावत ने भी घटना की जानकारी लेने के बाद दुकानों का बारिकी से निरीक्षण किया। वे जल्द ही विस्तृत प्रतिवेदन सौंपेगे। प्रारंभिक जांच में रावत ने बताया कि आग शॉर्ट सर्किट से नहीं लगी। आग लगने का बड़ा कारण गलत ढंग से पटाखों के पैकेट रखना है। गलत ढंग से पटाखे रखने पर चिंगारी निकली जिसने बारूद के ढेर में आग भड़का दी। यह आग अग्निकांड में तब्दील हुई और 7 लोगों को जिंदा जला दिया। 


..... और कलेक्टर बोले कि पटाखों का निशान भी मिला तो केस 
कलेक्टर पी. नरहरि ने कहा कि दुकानों पर पटाखे या इनका निशान भी मिला तो विस्फोटक अधिनियम के तहत सीधे कार्रवाई करेंगे। अब व्यस्त बाजार में किसी भी हालात में पटाखे बेचने की अनुमति नहीं होगी। लाइसेंस के पते भी बदलने के लिए कहा जा रहा है। जिन दुकानों के पते बताकर व्यापार कर रहे हैं, उन्हें ही बदलकर आबादी से बाहरी क्षेत्र में दुकान लगाने पर ही नवीनीकरण होगा। एेसा नहीं किया तो लाइसेंस निरस्ती की कार्रवाई की जाएगी। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned