कातिल नर्स: तांत्रिक ने नहीं निभाया वादा, तो रिटायर्ड नर्स ने डंडे से पीट कर की हत्या 

Indore, Madhya Pradesh, India
 कातिल नर्स: तांत्रिक ने नहीं निभाया वादा, तो रिटायर्ड नर्स ने डंडे से पीट कर की हत्या 

देर रात शव जमीन में गाड़ रहे आठ लोगों को  पुलिस ने पकड़ा,  जांच की तो करीब 45 साल के मृतक के शरीर पर अनेक चोटों के निशान मिले

इंदौर. जमीन में दबा हुआ खजाना तंत्र-मंत्र से निकालने का दावा जब झूठा साबित हुआ तो उस कथित तांत्रिक को उन्हीं लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला, जिन्हें मृतक ने धन के लालच में मूर्ख बना कर रुपए ऐंठ लिए थे।

कनाडिय़ा पुलिस को देर रात सूचना मिली थी कि इलाके के एक सूने मकान पर अंधेरे में कुछ लोग जमीन में गड्ढा खोदकर शव दफनाने की तैयारी कर रहे हैं। इस पर मौके पर पहुंचे पुलिस दल ने घेराबंदी करते हुए छापा मारा तो वहां तीन संदेही युवकों के पास एक अधेड़ बाबा का शव जमीन पर पड़ा मिला। जांच की तो करीब 45 साल के मृतक के शरीर पर अनेक चोटों के निशान मिले। मृतक की पहचान विक्रम ढोलिया (45) निवासी देवास के रूप में हुई, जबकि मृतक के हाथ पर गंगाराम नाम गुदा होना पाया गया। 


police investigation


पुलिस ने मौके से वीणा सिंह पति प्रहलाद सिसोदिया (71) सहित सात लोगों  कैलाश पिता मंजूनाथ (39) निवासी अहीरखेड़ी द्वारकापुरी, प्रहलाद पिता तेजराम (30) निवासी खिमाना खुड़ैल,  जयसिंह पिता प्रतापनाथ (50) निवासी खुड़ैल, ओमप्रकाश पिता बंसीलाल (45) परवरिया भोपाल, घनश्याम पिता दीवानचंद (48) निवासी रामपुरा नीमच, अंकुर देवड़ा निवासी खुड़ैल को पकड़ा व हिरासत में लेकर थाने पहुंचाया, तब मर्ग कायम कर मृतक के शव को पीएम हेतु एमवाय अस्पताल पहुंचाया गया। 

पकड़ी गई वृद्धा वीणा सिंह रिटायर्ड सरकारी नर्स है। कनाडिय़ा रोड़ के मित्रबंधु नगर के  जिस तीनमंजिला मकान के पिछले कमरे में धन निकालने के लिए खुदाई की गई वो उसके दामाद अशोक श्रीवास्तव का है। बेटी व दामाद शहर के बाहर रहते हैं, जबकि वीणा सिंह करीब दस साल से वहां रह रही है। देवास का विक्रम पग पायला (सिर की जगह पैरों की तरफ से जन्म लेने वाला) था। कुछ माह पूर्व वीणा सिंह उसके संपर्क में आई तो विक्रम ने दामाद के मकान में जमीन के नीचे धन गढ़ा होने की बात बताई। इस पर वीणा सिंह ने उसे अपने घर बुलाकर धन खोजकर निकालने का काम सौंपा था। उस वक्त विक्रम ने वृद्धा से इस काम के एवज में करीब ढाई लाख रुपए ऐंठ लिए थे, लेकिन वो काम नहीं कर पाया था। 

हाल ही में वीणा सिंह ने अहीरखेड़ी थाना राजेंद्र नगर इलाके में रहने वाले एक अन्य कथित तांत्रिक कैलाश पिता मंजूनाथ (39) निवासी द्वारकापुरी से संपर्क कर सारी बात बताई। कैलाश ने अपने साथी प्रहलाद,  जयसिंह, ओमप्रकाश पिता बंसीलाल, घनश्याम, अंकुर देवड़ा के साथ मिलकर हाल ही में घेराबंदी कर  विक्रम  को पकड़ा व धन निकाल कर देने को कहा। सभी सात आरोपियों ने गुरुवार को ही विक्रम को उस मकान में लाकर धन निकालने का काम शुरू किया था। विक्रम ने उस मकान के पीछे वाले कमरे में जमीन के नीचे धन होना बताया था। जहां कई घंटों खुदाई करवाई गई। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned