खतरनाक मोड़, खूंखार जानवर और जंगलों के पार है यह खूबसूरत जगह

amit mandloi

Publish: Jul, 18 2017 09:21:00 (IST)

Indore, Madhya Pradesh, India
खतरनाक मोड़, खूंखार जानवर और जंगलों के पार है यह खूबसूरत जगह

भगवान परशुराम शिव के एक मात्र शिष्य थे, जिन्हें भगवान ने शस्त्र-शास्त्र का ज्ञान दिया दिया था।

इंदौर. जानापाव जैसा नाम वैसा ही मार्ग। 3600 फीट ऊंची पहाड़ी पर विराजे भगवान परशुराम। संकरे रास्तों में अंधे मोड़, नाले, घनी झाडियां और जंगली जानवरों का डर, यह सब पार करने के बाद पहुंचते हैं जानापाव। जानापाव पहुंचते ही आप इन सारी समस्याओं को भूल जाते थे, क्योंकि यहां आपके सामने होता है शानदार नजारा और भगवान परशुराम की जन्म स्थली से जुड़े राज। इंदौर से करीब 28 किमी दूर जानापाव भगवान परशुराम की जन्मस्थली है। भगवान परशुराम शिव के एक मात्र शिष्य थे। 


janapav

- महर्षि जमदग्रि की तपोभूमि तथा भगवान परशुराम की जन्मस्थली जानापाव, इंदौर की महू तहसील के हासलपुर गांव में स्थित है।
- मान्यता है कि जानापाव में जन्म के बाद भगवान परशुराम शिक्षा ग्रहण करने कैलाश पर्वत चले गए थे।
- जहां भगवान शंकर ने उन्हें शस्त्र-शास्त्र का ज्ञान दिया और शिक्षा पूर्ण होने पर फरसा और धनुष दिया था। इसी फरसे से परशुराम ने 17 बार धरती को क्षत्रिय विहीन किया था। 
- भगवान शंकर द्वारा दिया गया धनुष भगवान परशुराम ने मिथिला नरेश के यहां पर रख दिया था, जिसे बाद में भगवान राम ने सीता स्वयंवर में तोड़ा था, जिससे भगवान परशुराम रुष्ट हो गए थे। 
- जानपाव पहुंचने के दो रास्ते हैं। एक रास्ता पहाड़ाें के बीच से होकर जाता है, जबकि दूसरा पक्का मार्ग है।
कुंड से निकलती है ये नदियां
- जानापाव पहाड़ी से साढ़े सात नदियां निकली हैं। इनमें कुछ यमुना व कुछ नर्मदा में मिलती हैं। 
- यहां से चंबल, गंभीर, अंगरेड़ व सुमरिया नदियां व साढ़े तीन नदियां बिरम, चोरल, कारम व नेकेड़ेश्वरी निकलती हैं। 
- ये नदियां करीब 740 किमी बहकर अंत में यमुनाजी में तथा साढ़े तीन नदिया नर्मदा में समाती हैं।



janapav



भगवान परशुराम के जन्म के संबंध में प्रचलित कथाएं
- भगवान परशुराम के पिता भृगुवंशी ऋषि जमदग्रि और माता राजा प्रसेनजीत की पुत्री रेणुका थीं। ऋषि जमदग्रि बहुत तपस्वी और ओजस्वी थे। ऋषि जमदग्रि और रेणुका के पांच पुत्र रुक्मवान, सुखेण, वसु, विश्ववानस और परशुराम हुए। एक बार रेणुका स्नान के लिए नदी किनारे गईं। संयोग से वहीं पर राजा चित्ररथ भी स्नान करने आया था। राजा को देख रेणुका उसपर मोहित हो गईं। ऋषि ने योगबल से पत्नी के इस आचरण को जान लिया। उन्होंने अपने पुत्रों को मां का सिर काटने का आदेश दिया। किंतु परशुराम के अलावा सभी ने ऐसा करने से मना कर दिया। परशुराम ने पिता के आदेश पर मां का सिर काट दिया। क्रोधित पिता ने आज्ञा का पालन न करने पर अन्य पुत्रों को चेतना शून्य होने का श्राप दिया, जबकि परशुराम को वर मांगने को कहा। तब परशुराम ने तीन वरदान मांगे...
- पहला, माता को फिर से जीवन देने और माता को मृत्यु की पूरी घटना याद न रहने का वर मांगा।
- दूसरा, अपने चारों चेतना शून्य भाइयों की चेतना फिर से लौटाने का वरदान मांगा।
- तीसरा, वरदान स्वयं के लिए मांगा, जिसके अनुसार उनकी किसी भी शत्रु से या युद्ध में पराजय न हो और उनको लंबी आयु प्राप्त हो।
- पिता जमदग्रि अपने पुत्र परशुराम के ऐसे वरदानों को सुनकर गदगद हो गए और उनकी कामना पूर्ण होने का आशीर्वाद दिया।


janapav



बहुत खूबसूरत है इंदौर का पहला हिल स्टेशन
- जानापाव को वन विभाग ने एक रिसॉर्ट और हिल स्टेशन की शक्ल में तैयार किया है। अब यहां आने वाले रुक कर इस खूबसूरत जगह को देख सकेंगे। मुख्य वन संरक्षक वीके वर्मा के मुताबिक मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने जानापाव को रिसोर्ट के रूप में विकसित करने के निर्देश जारी किए थे। इसी को देखते हुए यहां पर खाली पड़ी वनभूमि पर गेस्ट हाउस तैयार किया गया है। कुंड को भी चौड़ा किया गया है। साथ ही सेल्फी जोन भी बनाया गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned