रिटर्न दाखिल नहीं करने पर 4 लाख कंपनियों का रद हो सकता है पंजीकरण

NICS Team

Publish: Apr, 18 2017 09:32:00 (IST)

Industry
रिटर्न दाखिल नहीं करने पर 4 लाख कंपनियों का रद हो सकता है पंजीकरण

सरकार ने देशभर में 4 लाख से अधिक ऐसी कंपनियों को चिन्हित किया है जो केवल नाम के लिए चल रही हैं।  यदि ये कंपनिया रिटर्न दाखिल करने में नाकाम रहती हैं तो इनका पंजीकरण रद किया जा सकता है।

नई दिल्ली. नवंबर में नोटबंदी के बाद केंद्र सरकार ने कालेधन पर लगाम लगाने के लिए कई कदम उठाए हैं। इसी दिशा में सरकार ने देशभर में 4 लाख से अधिक ऐसी कंपनियों को चिन्हित किया है जो केवल नाम के लिए चल रही हैं। इन कंपनियों ने बीते तीन सालों में अपना रिटर्न भी दाखिल नहीं किया है। अब इनको नोटिस भेजकर एक माह के अंदर रिटर्न दाखिल करने को कहा गया है। यदि ये कंपनिया रिटर्न दाखिल करने में नाकाम रहती हैं तो इनका पंजीकरण रद किया जा सकता है।
सूत्रों के अनुसार, यदि ये कंपनियां तय समय में अपने कार्य के बारे में कोई जानकारी नहीं देती हैं तो कंपनी मामलों का मंत्रालय इनके नाम सार्वजनिक कर देगा। साथ ही इन कंपनियों और उनके निदेशकों की सूचना आयकर विभाग, बैंक और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को दे जाएगी, ताकि वे भविष्य में इन कंपनियों के नामों से लेनदेन न कर सकें। 

14.6 लाख कंपनियां रजिस्टर्ड हैं देशभर में
एक अनुमान के अनुसार देशभर में 14.6 लाख से अधिक कंपनियां रजिस्टर्ड हैं, लेकिन इनमें से 10.2 लाख कंपनियां ही सक्रिय हैं। अन्य कंपनियां केवल कागजों पर ही चल रही हैं। सरकार का मानना है कि कागजों पर चल रहीं ये कंपनियां कालेधन के शोधन के कार्य में लगी हैं। इसीलिए सरकार ने नोटिस जारी करने इनके कामकाज और रिटर्न दाखिल करने को कहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned