अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की सुरक्षा करने वाला डॉग बना कान्हा के बाघ का बॉडीगॉर्ड

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की सुरक्षा करने वाला डॉग बना कान्हा के बाघ का बॉडीगॉर्ड

कान्हा राष्ट्रीय पार्क में विशेष प्रजाति के कुत्ते बाघों की सुरक्षा में तैनात किए गए हैं

जबलपुर। वैसे तो बाघ के आगे अच्छे अच्छों की बोलती बंद हो जाती है। उससे बचने के लिए लोगों को सुरक्षा की जरूरत पड़ती है। लेकिन अब बाघों को खुद ही सुरक्षा की जरूरत पडऩे लगी है। शिकारियों से उन्हें बचाने के लिए अब कुत्ते उनके बॉडीगार्ड बन रहे हैं। पिछले दिनों कान्हा राष्ट्रीय पार्क में विशेष प्रजाति के कुत्ते बाघों की सुरक्षा में तैनात किए गए हैं। इन कुत्तों की खासियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ये दुनिया के सबसे ताकतवर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सुरक्षा की मजबूत कड़ी हैं। 


इन विशेष कुत्तों का प्रयोग मध्यप्रदेश में पहली बार राष्ट्रीय उद्यानों की सुरक्षा के लिये हो रहा है। अब तक मध्यप्रदेश पुलिस के पास भी इस ख़ास नस्ल का कोई भी कुत्ता नहीं है। पार्क प्रबंधन का कहना है कि इस कुत्ते के आने से कान्हा की सुरक्षा और पुख्ता होगी। यह विभिन्न मामलों के अनुसंधान में भी अपनी भूमिका निभायेगा,शिकारी भी इसकी पैनी निगाह से नहीं बच पायेंगे। इसके सेंसिज इतने तेज हैं कि यह दूर से ही अपराधियों की पहचान कर सकता है। इसी लिये पार्क प्रबंधन पार्क के आसपास भरने वाले हाट बाजारों में भी इसकी गश्ती कराता है ताकि वन संबधित अपराधों पर अंकुश लगाया जा सके।


बाघ,बारहसिंघा एवं अन्य वन्यप्राणियों के लिये दुनिया भर में मशहूर कान्हा नेशनल पार्क की सुरक्षा की जवाबदारी अब एक विशेष प्रजाति के जिम्मे है। इसमें भी दिलचस्प बात यह है कि यह कोई कुत्तों की फौज नहीं बल्कि सिर्फ एक कुत्ता है। इस विशेष कुत्ते की खासियत यह है कि ये बेल्जियन मैलिनिन या बेल्जियन शेफर्ड प्रजाति का कुत्ता है। यह प्रजाति कुत्तों में सबसे ख़ास मानी जाती है।इसकी खासियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनिया का सबसे सुरक्षित व्यक्ति अमेरिका का राष्ट्रपति और उनके निवास स्थान वाइट हाउस की निगरानी भी इसी बेल्जियन शेफर्ड प्रजाति के कुत्तों के हवाले है। अब इस प्रजाति पर वाइल्ड लाइफ की निगरानी का जिम्मा है। 


कान्हा टाईगर रिजर्व मंडला के फील्ड डायरेक्टर संजय शुक्ला के अनुसार पुलिस ट्रेनिंग स्कूल भोपाल में 9 माह की विशेष ट्रेनिंग पूरी कर कान्हा नेशनल पार्क के अलावा संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान,पन्ना टाईगर रिजर्व और पेंच टाईगर रिजर्व को भी एक एक कुत्ते प्रदान किये गये हैं।  इन कुत्तों के साथ एक डॉग मास्टर और उसके एक सहयोगी को भी किया गया है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned