गांव में हुआ खतरनाक धमाका, फट गई मकानों की दीवारें, दहल गए लोग

balmeek pandey

Publish: Jun, 20 2017 03:33:00 (IST)

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
 गांव में हुआ खतरनाक धमाका, फट गई मकानों की दीवारें, दहल गए लोग

मोरस सिमरिया गांव की घटना

जबलपुर/नरसिंहपुर। नरसिंहपुर जिले के मोरस सिमरिया गांव के लोग उस समय दहल उठे जब जोरदार धमाके से गांव की धरती डोल उठी। मकानों की दीवारें धराशायी हो गईं। अधिकांश घरों की दिवारों में दरारें आ गईं। भूकंप जैसी घटना से सहम कर लोग घरों के बाहर भागकर अपनी जान बचाई। बतों दें कि मोरस सिमरिया में पत्थर खदान में लगातार अवैध तरीके से ब्लास्टिंग कर उत्खनन किया जा रहा है, जिससे गांव में हर रोज भूकंप जैसे हालात निर्मित हो रहे हैं। ग्रामीणों ने शीघ्र ही धमाकों पर रोक लगाए जाने मांग की है।


घंटों डोलती है जमीन
जानकारी के अनुसार मोरस सिमरिया में पत्थर खदान पर ब्लास्टिंग की जा रही है। इससे गांव में भूकंप जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई। गांव में घंटो तक भूकंप जैसी स्थिति बनी रही। गांव के मोतीलाल ठाकुर, गोविंदी ठाकुर, टीकाराम यादव को दुलाल ठाकुर गजेंद्र ठाकुर राजकुमार ठाकुर मूलचंद मिस्त्री का कहना है हम पीएम आवास योजना के अंतर्गत मकान निर्माण कर रहे थे तभी अचानक पास में बनी पत्थर खदान में ब्लास्टिंग होने से नवनिर्मित दीवार ढह गई।

गौवंश घायल
ब्लास्टिंग के कारण हुए जोरदार धमाके के कारण दीवार एक गाय और बकरी के ऊपर गिर गई, जिसमें दोनों घायल हैं। घर पर काम कर रहे मिस्त्री अपनी जान बचाकर भागे। प्राथमिक साला सिमरिया मोरस शिक्षक का कहना है हम तो यही समझे थे कि भूकंप आ गया है इस कारण बच्चों सहित भवन से बाहर निकल आए। गीत के अनुसार धमाके से घर नष्ट हो गया है। अधिकांश दीवारों में दरारें पड़ गई। मोतीलाल ठाकुर का कहना है पिछले वर्ष ऐसे ही ब्लास्टिंग से नुकसान हुआ था। 

Dangerous Blasting In Panic In Rural

परेशान हैं ग्रामीण
ग्रामीणों ने बताया कि खदान मालिक के साथ एसडीएम मौके पर पहुंचे और अवैध ब्लास्टिंग में रोक लगाने की बजाय और गहराई में ब्लास्टिंग करने की सलाह देकर चले गए। ग्रामीणों के अनुसार 20 से 25 फीट गहराई में बारूद भर की ब्लास्टिंग करते हैं, जिससे पूरे क्षेत्र में भूकंप जैसा माहौल निर्मित हो जाता है। वहीं 24 घंटे ब्लास्टिंग, डस्ट और शोर से ग्रामीणों की जान पर हर समय खतरा मंडरा रहा है। ब्लास्टिंग के समय न तो सूचना दी जाती है और ना ही सुरक्षा मानकों का ध्यान रखा जा रहा है।

Dangerous Blasting In Panic In Rural


शासकीय भवन हो रहे खराब
पूर्णा बाई, फूला बाई, रामप्रसाद, राजाराम, मूलचंद, परषोत्तम रामजी ठाकुर, बाबूलाल ठाकुर, छोटेलाल ठाकुर लाल सिंह ठाकुर का कहना है कि इस धमाके से उनका जीना मुहाल हो गया है। घंटों तक होने वाली धमक से मवेशी भी विचलित हो जाते हैं। ब्लास्टिंग के गांव के जल स्त्रोत भी बंद हो रहे हैं। गांव में हमेशा खदान से दुर्घटना होने की आशंका बनी रहती है। कई बार ग्रामीण एसपी कलेक्टर से शिकायत कर चुके हैं बावजूद इसके समस्या का समाधान नहीं हो रहा। वहीं खदान खुली होने से हमेशा हादसे होते हैं। ल, ईशान राय जिला अस्पताल पहुंचे हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned