इस मुहूर्त में करें मकर संक्रांति पूजन, जानें इस दिन का महत्व

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
  इस मुहूर्त में करें मकर संक्रांति पूजन, जानें इस दिन का महत्व

जबलपुर के नर्मदा घाटों में मकर संक्रांति पर्व पर उमड़ेगा श्रद्धा का सैलाब, दोपहर बाद शुरू होगा मुहूर्त

जबलपुर। पूरे भारत में मकर संक्रांति का पूर्व 14 जनवरी को मनाया जाता है। मकर संक्रांति को लेकर जबलपुर में विशेष तैयारी की गई हैं। ज्योतिष विदें का कहना है कि शनि देव मकर राशि के स्वामी हैं और इस दिन जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तो उसे मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। सूर्य के उत्तरायण होते की शुभ कार्यों की शुरुआत हो जाती है। ज्योतिष विद् पंडित विपिन शास्त्री के अनुसर मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त दोपहर 1.48 बजे से सूर्यास्त तक रहेगा। क्योंकि 1.48 मिनिट पर धनु राशि का संचरण मकर पर होगा। इस दौरान नर्मदा में स्नान शुभ और फलदायक होगा।


 
ग्वारीघाट, तिलवाराघाट, लम्हेटाघाट, भेड़ाघाट में संक्रांति के दिन लोग स्नान करने पहुंचेंगे। जो देर शाम तक चलेगा। नर्मदा घाटों पर संक्रांति पर्व को लेकर प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किए हैं। स्नान, दान पुण्य करने का इस दिन विशेष महत्व है।



इस दिन भीष्म ने त्यागी थी देह

महाभारत में भीष्म पितामह ने इसी दिन अपनी देह का त्याग किया था। सूर्य के उत्तरायण होते ही उन्होंने अपने प्राणा त्यागे थे। वहीं भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता के उपदेश देते हुए सूर्य देव का महत्व बताया था। इसलिए कई स्थानों पर भागवत का पाठ भी आयोजित किया जाएगा।



दान करने से मिलता है फल

पंडित रामसंकोची गौतम बताते हैं कि  सुबह ब्रम्ह मुहूर्त में दान करने से सौ गुने फल की प्राप्ति होती है। पुराणों में लिखा है इस दिन स्नान जरूर करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि जो भी व्यक्ति इस दिन तीर्थ स्थल पर जाकर स्नान नहीं करता वह सात जन्मों के लिए रोगी और गरीब हो जाता है। इस दिन मंदिरों में जाकर पूजन करने से फल की प्राप्ति होती है। भगवान शिव की उपासना करनी चाहिए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned