फसल के साथ जले अरमान, कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या, देखें वीडियो

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
    फसल के साथ जले अरमान, कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या, देखें वीडियो

नरसिंहपुर के ग्राम धमना की घटना

जबलपुर/नरसिंहपुर। खेती करके परिवार का भरण-पोषण करने वाले एक किसान के अरमान उस समय खाक हो गए जब उसकी पूरी फसल देखते ही देखते जल गई। उसे उम्मीद थी कि प्रशासन से कुछ राहत मिलेगी, लेकिन यहां भी निराशा ही हाथ आयी। उसने कर्ज का सहारा लिया, लेकिन वह भी पहाड़ सा साबित हुआ। उससे समस्या से बचने का कोई रास्ता नहीं सूझा और मंगलवार सुबह उसने सल्फास की गोलियां खाकर मौत को गले लगा गया। किसान द्वारा आत्महत्या किए जाने की खबर आग की तरह फैल गई। हर कोई स्तब्ध रह गया। किसान के घर पर नेताओं अफसरों का मजमा लग गया। पुलिस ने प्रकरण कायम करके मामले को जांच में लिया है।



यह है मामला
जानकारी के अनुसार नरसिंहपुर के ग्राम धमना में किसान लक्ष्मी पिता टीकाराम गुमास्ता ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है। परिजनों का आरोप है कि कुछ दिनों पहले फसल जलकर नष्ट हो गई थी। फसल जलने के बाद लक्ष्मी मुआवजा के लिए भटक रहा था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुआ। परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए लक्ष्मी ने कर्ज भी लिया था। इस कर्ज को चुकाने के लिए उसे कोई रास्ता समझ में नहीं आ रहा था। इस कारण वह बेहद उदास रहने लगा था। मंगवार को लक्ष्मी ने जहर पी लिया और उसकी उपचार के दौरान अस्पताल में मौत हो गई। घटना की जानकारी लगते ही पूर्व विधायक सुनील जायसवाल, किसान नेता भगवन्त सिंह जाट, रोहित पटेल, ईशान राय जिला अस्पताल पहुंचे हैं।

कट गई है बिजली
बताया जा रहा है कि कर्ज में डूबा किसान के सिर एक और आफत आ गई थी। उसका विद्युत कनेक्शन कट गया था, जिससे परेशान होकर मंगलवार की सुबह 7 बजे उसने सल्फास खा लिया। हालत बिगड़ते देख परिजना तत्काल उसे स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। उपचार के दौरान 65 वर्षीय लक्ष्मी ने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि लक्ष्मी ने एकसाथ 7 सल्फास की गोलियां खाईं थी। घटना से जहां पर माहौल गमगीन हो गया है तो वहीं घटना के बाद मृतक किसान के परिजन और अन्य किसान अस्पताल में ही धरने पर बैठ गए। एसडीएम और एसडीओपी मौके पर पहुंचे हैं, परिजनों व किसानों से बातचीत जारी है। किसान कलेक्टर के आने की बात पर अड़े हैं।


तीन एकड़ की फसल स्वाहा
बताया जा रहा है कि लक्ष्मी के तीन एकड़ में लगी गेहूं की फसल जलकर खाक हो गई थी। लक्ष्मी ने घटना की जानकारी ग्राम पंचायत के सरपंच-सचिव, पटवारी सहित तहसीलदार को आवेदन दिया था। लगातार मांग के बाद भी नहीं मुआवजा नहीं मिला। परिजनों ने यह भी बताया कि लक्ष्मी का यूको बैंक में चार लाख रुपये का कर्ज था। फसल जलने और कर्ज से परेशान लक्ष्मी ने यह आत्मघाती कदम उठाया है। वहीं पुलिस ने मामले को जांच में लिया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned