दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं मकर संक्रांति के ये 6 मेले, जुड़ी हैं रोचक कथाएं

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
  दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं मकर संक्रांति के ये 6 मेले, जुड़ी हैं रोचक कथाएं

मध्यप्रदेश में ही नही पूरे देश में मकर संक्रांति की धूम रहती है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान राम ने पतंग ड़ाई थी। 

जबलपुर। मध्यप्रदेश में ही नही पूरे देश में मकर संक्रांति की धूम रहती है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान राम ने पतंग ड़ाई थी। इसके अतिरिक्त पुरातनकाल से इस त्योहार पर मेलों की परंपराएं जीवित हैं। जो अब भी जस की तस हैं। आज हम आपको प्रदेश के कुछ ऐसे ही प्रसिद्ध मेलों की ओर लेकर जा रहे हैं...

बरमान मेला: मध्यप्रदेश नरसिंहपुर जिले के बरमान में नर्मदा के तट पर मकर संक्रांति का सर्वाधिक पुराना मेला लगता है। यह मकर संक्रांति से शुरू होकर बसंत पंचमी तक चलता है। मेले को लेकर कई तरह की कथाएं एवं मान्यताएं प्रचलित हैं। इस स्थान से पांडव एवं ब्रम्हदेव का इतिहास भी जुड़ा हुआ है। 

तिलवाराघाट: जबलपुर जिले के तिलवारा घाट में लगने वाला मकर संक्रांति के मेले की भी प्रसिद्धि कम नही है। यहां आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या से लोग आते हैं। तिल महादेव की मान्यता के चलते यह स्थान भी खासा प्रसिद्ध है। 


आंतरी का मेला: मनासा के आंतरी में मकर संक्रांति का 6 दिवसीय मेला आयोजित किया जाता है। यहां मुख्यत: राजस्थानी कल्चर देखने मिलता है। राजस्थान के नजदीक ही होने की वजह से दो प्रदेशों की संस्कृति यहां नजर आती है। मेले की भव्यता भी 6 दिनों के दौरान आकर्षण का केंद्र होती है। 

देवपुर का मेला: विदिशा के निकट सिरोंज नगर से 12 किमी दूर आरोन रोड स्थित देवपुर को 62 तीर्थों का गुरु कहा जाता है। पद्म पुराण में देवपुर का उल्लेख है। यहां मकर संक्रांति के मेले की भव्यता दो दिन पहले से ही देखने मिलने लगती है।  


रोहनिया का मेला: तीन दिवसीय मकर संक्रांति मेले की खासियत है कि यहां एक एक कुण्ड है जिसे गौमुख कहा जाता है इसके मुख से चौबीसों घंटे पानी निकलता रहता है। यहां राम और हनुमान का प्रसिद्ध मंदिर भी है। जिसकी वजह से भी यह स्थान आस्था का केंद्र है। 


रूपनाथ का मेला: यह स्थान सम्राट अशोक से जुड़ा है। मकर संक्रांति के अवसर पर यहां भव्य और विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। राम, सीता व प्राकृतिक लक्ष्मण कुण्ड होने की वजह से धार्मिक मान्यताओं के लिए ये सर्वाधिक प्रसिद्ध है। 

मकर संक्रांति के अवसर पर मध्यप्रदेश के इन मेलों की चर्चा दूर-दूर तक रहती है। जिसकी वजह से हर साल ही यहां देशी-विदेशी हजारों लोग एकत्रित होते हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned