अद्भुत: यहां स्वप्न में स्वयं बताते हैं महादेव, आज किस रूप में देंगे दर्शन 

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
  अद्भुत: यहां स्वप्न में स्वयं बताते हैं महादेव, आज किस रूप में देंगे दर्शन 

नर्मदा तट पर स्थित इस मंदिर में भगवान भोलेनाथ स्वयं बताते हैं कि आज उन्हें किस रूप भक्तों को दर्शन देने हैं।

जबलपुर। अन्य मंदिरों की तरह इसे लेकर भी कई तरह की मान्यताएं हैं, लेकिन दूसरे मंदिरों की बजाए नर्मदा तट पर स्थित इस मंदिर में भगवान भोलेनाथ स्वयं बताते हैं कि आज उन्हें किस रूप भक्तों को दर्शन देने हैं। भक्तों की इसे लेकर अलग-अलग तरह की मान्यताएं हैं। हर सुबह पूजन के वक्त यहां बड़ी संख्या में भक्तों महादेव के अद्भुत स्वरूप के दर्शन करने पहुंचते हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बता रहे हैं...

नर्मदा तट ग्वारीघाट के पास साकेत धाम आश्रम में रामेश्वर महादेव का मंदिर है। इस मंदिर के विषय में कहा जाता है कि यहां शिव जागृत अवस्था में हैं और विभिन्न प्रकार के वेष धारण करने की प्रेरणा देते हैं। सावन में तो महादेव 30 दिन अलग अलग वेष धारण करते हैं। 

मान्यता है कि वह स्वप्न में बताते हैं कि आज उन्हें कौन सा वेष धारण करना है।  संस्कारधानी में रामेश्वर महादेव का जगन्नाथ रुप देखने दूर-दूर से भक्त आते हैं। यहां महादेव प्रति वर्ष आषाढ़ द्वितिया को जगन्नाथ जी का रुप धारण कर लेते हैं। 



shiva


नर्मदा पंचकोसी परिक्रमा साकेतधाम में महादेव के पूजन-अर्चन के बाद शुक्रवार सुबह शुरू हुई। इस दौरान महादेव महाकाल बाबा के रूप में दिखाई दिए। बड़ी संख्या में श्रद्धालु उनके इस स्वरूप के दर्शन करने पहुंचे। साकेतधाम के संस्थापक स्वामी गिरिशानंद के सान्निध्य में परिक्रमा प्रारंभ की गई। नर्मदा पंचकोसी यात्रा के अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु मां नर्मदा के तट पर एकत्रित होंगे। 20 फरवरी को शुरू होने वाले पाटोत्सव में बड़ी संख्या में संतों का आगमन होगा। 

panchkoshi

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned