ये है देश का पहला छावनी क्षेत्र, जहां मशीन से मिलेगा पानी

Jabalpur, Madhya Pradesh, India
ये है देश का पहला छावनी क्षेत्र, जहां मशीन से मिलेगा पानी

सिक्के या नोट डालकर मिलेगा पानी, बगीचा क्षेत्र और गरीब बस्तियों को होगा फायदा

जबलपुर। केंट के बगीचा क्षेत्र  एवं निचली बस्तियों में लोगों को शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए केंट बोर्ड पानी की मशीन लगाएगा। मशीन में सिक्के या नोट डालकर पानी निकाला जा सकेगा। इस काम को शुरू करने वाला जबलपुर देश की 62 छावनियों में पहला केंट बोर्ड होगा। 


इसलिए जरूरी
केंट क्षेत्र में 70 हजार से ज्यादा की आबादी है। 70 फीसदी लोग बगीचा क्षेत्र में रहते हैं। इनमें से ज्यादातर सैन्य भूमि में निवासरत हैं। सेना इन्हें अनधिकृत मानती है। इस कारण केंट बोर्ड यहां बुनियादी सुविधाएं मुहैया नहीं करा रहा है। नियमों के अनुसार केंट बोर्ड सिविल एरिया में ही विकास के काम करवा सकता है। बगीचा क्षेत्रों में निवासरत लोगों को कई सुविधाओं से वंचित होना पड़ता है। यही स्थिति गरीब बस्तियों की है। 

नोट डालकर पानी 
अब 8 से दस जगहों पर वाटर मशीन लगाई जाएगी। इसमें सिक्के या नोट डालकर पीने के लिए शुद्ध पानी प्राप्त किया जा सकेगा। केंट बोर्ड इस प्रस्ताव को आगामी  बोर्ड बैठक में रखेगा। केंट क्षेत्र में पानी की सप्लाई के लिए बोरिंग ही मुख्य आधार है। टैगौर गार्डन में टैंक में पानी एकत्र कर ट्रीटमेंट किया जाता है। बगीचा क्षेत्रों में लोगों को हैंडपंप का पानी पीना पड़ता है। 


एेसे कई इलाके हैं जहां पीने के लिए बेहतर सुविधा नहीं हैं। इन जगहों पर मशीन रखवाकर पानी की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए मामूली चार्ज लिया जाएगा। 
राहुल आनंद शर्मा, सीईओ केंट बोर्ड 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned