झारखंड के इस क्षेत्र में 15-20 सालों से लोग निकल रहे सोना, सरकार बेखबर

Indresh Gupta

Publish: Oct, 19 2016 11:56:00 (IST)

Jamshedpur, Jharkhand, India
झारखंड के इस क्षेत्र में 15-20 सालों से लोग निकल रहे सोना, सरकार बेखबर

जमशेदपुर, गम्हरिया, आदित्यपुर, चांडील और आसपास के स्वर्ण व्यवसायियों को ये मालामाल कर रहे हैं।

जमशेदपुर। जिले से सटे दलमा वन क्षेत्र के गांवों में लोग पिछले 15-20 सालों से सोना निकाल रहे हैं। जिसकी सरकार को कोई खबर तक नहीं है। दलमा वन क्षेत्र के विभिन्न हिस्से दो जिलों पूर्वी सिंहभूम और सरायकेला के भीतर आते हैं। इन दोनों जिलों के चांडील, नीमडीह, पटमदा और बोड़ाम थाना क्षेत्रों में दलमा के विभिन्न इलाकों में सालों से ग्रामीण सोना निकालने में जुटे हैं, लेकिन उनकी माली हालत आज भी दयनीय है।

जानकारी के अनुसार जब आला अफसरों की इसकी खबर मिली तो पत्र लिखने की कवायद शुरू हो गई है। बता दें कि बांधडीह गांव के ग्रामीण मोरे सिंह कहते हैं कि अपने साथी के साथ आकर रोज तालाब में सोना ढूंढते हैं। सूप हाथों में लिए ये ग्रामीण सोने की लेयर की संभावनाओं वाली जगहों के पास गड्ढे करके मटेरियल निकालते हैं और उसे तालाब के पानी में छानकर सोना निकालते हैं।

सोना निकालने वालों को एक कण के बदले 80-100 रुपए मिलते हैं। एक आदमी सोने के कण बेचकर माहभर में 5-8 हजार रुपए कमा लेता है। हालांकि बाजार में इस एक कण की कीमत करीब 300 रुपए या उससे ज्यादा है। स्थानीय दलाल और सुनार, सोना निकालने वाले लोगों से ये कण खरीदते हैं। कहते हैं कि यहां के आदिवासी परिवारों से सोने के कण खरीदने वाले दलाल और सुनारों ने कारोबार से करोड़ों की संपत्ति बनाई है।

हालांकि ये उतना आसान नहीं है, बताया जाता है कि 15-20 दिनों की मशक्कत के बाद सोना हाथ आता है। जिसे निकालने के बाद जब ये ग्रामीण उसे बेचने जाते हैं तो व्यापारी उसे औने-पौने दामों में खरीदते हैं। सोना निकालने वाले ग्रामीणों की दशा ऐसी है कि तन पर कपड़े तक ढंग के नहीं हैं, लेकिन जमशेदपुर, गम्हरिया, आदित्यपुर, चांडील और आसपास के स्वर्ण व्यवसायियों को ये मालामाल कर रहे हैं।

दूसरी तरफ जमशेदपुर और चांडील के स्वर्ण बाजार चकाचौंध में है। हालांकि कोई इस बात को मानने को तैयार नहीं कि इस चमक-दमक में दलमा के अवैध सोना खनन का भी हाथ है, लेकिन स्वर्णकार विकास मंच के प्रवक्ता धर्मेन्द्र कुमार ने यह माना
कि जमशेदपुर, चांडील और आस-पास के पूरे बेल्ट में नदी-तालाबों या अन्य जगहों पर सोना खूब मिलता है और उस काम में
बड़ी संख्या में लोग लगे हुए हैं, जिस पर सरकार को ध्यान देने की जरूरत है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned