एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने निकले पायो मुर्मू और हेमंत गुप्ता

Shribabu Gupta

Publish: Mar, 21 2017 06:01:00 (IST)

Jamshedpur, Jharkhand, India
एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने निकले पायो मुर्मू और हेमंत गुप्ता

हिमालय की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने के लिए जमशेदपुर के हेमंत गुप्ता और पायो मुर्मू निकल पड़े हैं...

जमशेदपुर। हिमालय की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने के लिए जमशेदपुर के हेमंत गुप्ता और पायो मुर्मू निकल पड़े हैं। हेमंत गुप्ता टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन (टीएसएएफ) के मैनेजर पद पर कार्यरत् हैं तो वहीं पायो मुर्मू टाटा स्टील ट्रॉफिक विभाग में कार्यरत महिलाकर्मी हैं।

जानकारी के अनुसार हेमंत और पायो के साथ टीएसएफए की चीफ सह भारत की पहली महिला एवरेस्टर बचेंद्री पाल और सेवन समिट पूरा कर चुकी जमशेदपुर की बहू प्रेमलता अग्रवाल भी बेस कैंप तक इस अभियान में शामिल होने के लिए जमशेदपुर से रवाना हो चुकी हैं।

22 मार्च को हेमंत और पायो नई दिल्ली से काठमांडू के लिए रवाना होंगे। पिछले कुछ दिनों से ये दोनों उत्तरकाशी में अपनी तैयारी को दुरुस्त करने में जुटे हुए थे। खबर है कि मंगलवार को दोनों उत्तरकाशी से नई दिल्ली पहुंचेंगे, जहां मीडिया से मुखातिब होने के बाद बचेंद्री पाल और प्रेमलता अग्रवाल के साथ काठमांडू के लिए प्रस्थान कर जाएंगे।

हेमंत और पायो के साथ छह सदस्यीय महिला पर्वतारोही दल भी अभियान में शामिल है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सभी महिला पर्वतारोही बेस कैंप तक हेमंत और पायो के साथ जाएंगे, फिर वहां से ये लोग एवरेस्ट का रास्ता छोड़ प्रेमलता अग्रवाल की अगुवाई में एक दूसरी चोटी फतह करने निकल पड़ेंगे। महिलाओं के दल में नोवामुंडी और कलिंगानगर की एक-एक आदिवासी महिला भी शामिल हैं।

गौरतलब हो कि हेमंत गुप्ता और पायो मुर्मू टाटा स्टील के सहयोग से 2015 में भी एवरेस्ट अभियान पर निकले थे, लेकिन 25 जून 2015 को नेपाल में आई भयंकर भूकंप ने इनके अभियान पर ब्रेक लगा दिया था।

दोनों ही पर्वतारोही बेस कैंप तक पहुंचे थे, तभी हिमालय में ऐसा कंपन हुआ कि पर्वतारोहियों के साथ मागदर्शक बनकर चलनेवाले 18 शेरपा काल की गाल में समा गये। इसके बाद हेमंत और पायो को न चाहते हुए भी बेस कैंप से वापस लौटना पड़ा था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned