पर्यावरण से खिलवाड़ : खुलेआम हो रहा चेन मशीन से रेत उत्खनन, विभाग मौन

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jun, 20 2017 01:23:00 (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India
पर्यावरण से खिलवाड़ : खुलेआम हो रहा चेन मशीन से रेत उत्खनन, विभाग मौन

खरौद के जलघाट से रेत का अवैध उत्खनन पिछले कई महीनों से चल रहा। दिलचस्प बात यह है कि यहां चेन मशीन से हाइवा में रेत निकालकर लोड की जा रही है।

जांजगीर-चांपा. खरौद के जलघाट से रेत का अवैध उत्खनन पिछले कई महीनों से चल रहा। दिलचस्प बात यह है कि यहां चेन मशीन से हाइवा में रेत निकालकर लोड की जा रही है।

इस बात की खबर खनिज अधिकारियों को होने के बाद भी वह लोग कुंभकरणी नींद में सो रहे हैं। जिससे खनिज अधिकारियों की जेब तो भर रही है, लेकिन शासन को लाखों की रायल्टी का नुकसान हो रहा है।

जिले में खनिज संपदा का दोहन करने खनिज माफिया काफी सक्रिय हैं। खासकर जिले में रेत का उत्खान जगह जगह जारी है।

महानदी, हसदेव, सोन नदी के कई इलाकों में प्रशासन की बिना अनुमति के रेत का उत्खान किया जा रहा है। जबकि खनिज विभाग से गिनती के रेत घाटों से अनुमति मिली है। कुछ इसी तरह का मामला खरौद के जलघाट में रेत उत्खनन का मामला सुर्खियों में है।

बताया जा रहा है कि खरौद के जल घाट में रेत की उत्खनन पिछले कई महीनों से दिन दहाड़े चल रहा है। सारे कारोबार खनिज अफसरों के सह पर चल रहा है।

रेत घाट संचालक का खनिज अफसरों के साथ साठगांठ है। यही वजह है कि यहां रेत माफिया सक्रिय है। दिलचस्प बात यह है कि रेत लोडिंग के लिए चेन मशीन का इस्तेमाल किया जा रहा है।

इसकी शिकायत खनिज अफसरों से की गई है। इसके बाद भी खनिज अफसरों को कार्रवाई के लिए फुर्सत नहीं है। बिताया जा रहा है कि चेन मशीन के द्वारा हर रोज 200 ट्रिप हाइवा रेत लोडिंग कर ले जाई जा रही है।

प्रत्येक हाइवा के पीछे 1000 हजार रुपए लोडिंग चार्ज लिया जा रहा है। इसके पीछे खनिज अफसर, पुलिस व कुछ मानवाधिकार के कार्यकर्ताओं का भी हाथ बताया जा रहा है।

गौरतलब है कि बीते दिवस इसी मामले को लेकर मानवाधिकार के कार्यकर्ताओं ने प्रशासन को आंदोलन की चेतावनी दी थी। इसके बाद अचानक उनकी आवाज भी दबी रह गई और रेत का उत्तखनन पहले से अधिक तेजी से होने लगा है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned