पीएम आवास के नाम पर लुट रहे गरीब, प्रशासन सिर्फ जांच तक सीमित

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jul, 18 2017 02:02:00 (IST)

Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India
पीएम आवास के नाम पर लुट रहे गरीब, प्रशासन सिर्फ जांच तक सीमित

प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर गरीबों को मिलने वाली राशि को ठगने के लिए किस तरह दलाल सक्रिय हैं यह बात किसी से छिपी नहीं है।

जांजगीर-चांपा. प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर गरीबों को मिलने वाली राशि को ठगने के लिए किस तरह दलाल सक्रिय हैं यह बात किसी से छिपी नहीं है।

इस कार्य में सबसे अधिक पंच, सरपंच और सचिव सक्रिय हैं। ऐसा ही एक मामला बलौदा विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत खैजा में सामने आया है।

यहां के कई हितग्राहियों ने कलेक्टर को लिखित में शिकायत किया है कि खैजा सरपंच प्रमोद कुमार साहू ने उन्हें आवास योजना का लाभ तो दिलवाया, लेकिन उसके एवज में मोटा कमीशन लिया है।

हालत यह है कि कमीशन देने के बाद अब वह मकान नहीं बना पा रहे हैं, जिससे उन्हें दूसरी किस्त की राशि मिल सके। यह शिकायत लेकर गांव की महिलाएं पांच-पांच बार कलेक्टोरेट जा चुकी हैं,

लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। बताया जा रहा है कि कलेक्टर ने बलौदा सीईओ को इस मामले की जांच के लिए निर्देशित किया है और १३ बिंदुओं पर जांच करके रिपोर्ट देने की बात कही है,

लेकिन काफी समय बीत जाने के बाद भी अब तक इन मामलों की जांच पूरी नहीं हुई है। बलौदा सीईओ द्वारा मामले की जांच जारी होने की बात कही जा रही है।

केस 01- खैजा निवासी कुंतुी बाई यादव पति मोहितराम यादव (५०) ने कलेक्टर को दिए शिकायत पत्र में लिखा है कि पीएम आवास योजना की पहली किस्त उसे ४८ हजार रुपए प्राप्त हुई थी। सरपंच प्रमोद साहू उस राशि को निकलवाने के लिए गत १७ अप्रैल को उसे ग्रामीण बैंक पहरिया लेकर गया।

कुंती से जमा फार्म में अंगूठा लगवाया और पूरी राशि दूसरे बैंक खाते में जमा करवा दिया। अब राशि मांगने पर वह हीला-हवाला कर रहा है और उसका मकान नहीं बन पा रहा है।

केस- 02- खैजा निवासी नोनी बाई यादव पति स्व. बोधराम (५०) ने कलेक्टर तो दिए शिकायत पत्र में लिखा है कि पीएम आवास उसके नाम पर स्वीकृत हुआ था, लेकिन सरपंच प्रमोद साहू ने गलत तरीके से उसे दूसरी महिला को आवंटित करा दिया है।

महिला पहले भी इसकी शिकायत कलेक्टर को दे चुकी है और बता चुकी है वह अत्यंत गरीब है उसका घर मिट्टी का है। उसकी हैसियत नहीं है कि वह पक्का मकान बना सके। इसलिए उसे इस योजना का लाभ मिलना अत्यंत जरूरी था।

केस- 03- खैजा निवासी जशौदा बाई पति स्व. जोहन लाल (६०) ने कलेक्टर को लिखित में शिकायत दिया है। उसका आरोप है कि सरपंच ने फर्जी तरीके से पीएम आवास का लाभ दूसरी महिला को दे दिया है,

सूची में उसका नाम है। वह इससे पहले भी नोनी बाई के साथ २९ जून को कलेक्टोरेट में शिकायत दे चुकी है, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। यदि कलेक्टर स्वयं गांव जाकर उसकी आर्थिक स्थिति को देखेंगे तो यह पता चलेगा कि उसे इस योजना का लाभ मिलना कितना जरूरी है।

केस-04 खैजा निवासी समुंद बाई पति लखनलाल ने कलेक्टर को शिकायत देकर आरोप लगाया है कि सरपंच ने पीएम आवास आवंटित होने की जानकारी उसके घर जाकर दी थी और धोखे से उससे उसका आधार कार्ड, राशन कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड और बैंक पासबुक ले लिया था। २९ अप्रैल को उसके खाते में ४८ हजार रुपए आए थे। १० मई को सरपंच उसे लेकर ग्रामीण बैंक पहरिया लेकर गया और दबाव बनाकर २४ हजार रुपए खुद ले लिया और अब मांगने पर घुमा रहा है।

वर्जन-
मेरे ऊपर लगे सभी आरोप गलत हैं। दूसरे को पीएम आवास आवंटित हुआ है, उसके लिए मैंने लिखित में वसूली करने के लिए  उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा है। रही बात रुपए लेने की तो जिस बैंक पासबुक में पैसा डाला गया है उसकी जांच की जाए। आरोप सही है या गलत पता चल जाएगा।
-प्रमोद कुमार साहू, सरपंच, ग्राम पंचायद खैजा

१३ बिंदुओं पर जांच के निर्देश- कलेक्टर ने १३ बिंदुओं पर जांच के लिए निर्देश दिया है। जांच की जा रही है। अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि जांच में क्या पाया गया है। जांच पूरी होते ही रिपोर्ट कलेक्टोरेट में सौंप दी जाएगी।
-आशीष देवांगन, सीईओ, बलौदा

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned