समूह के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने का कार्य शुरू

Shruti Agrawal

Publish: Jun, 21 2017 12:03:00 (IST)

Jhabua, Madhya Pradesh, India
समूह के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने का कार्य शुरू

महिलाओं की पहल पर गांव की पेयजल समस्या का निदान

पेटलावद. ग्रामीण महिलाएं जो चाहे वह कर सकती हैं। यह साबित किया है पेटलावद क्षेत्र की महिलाओं ने, जिन्होंने समूह के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने के लिए कार्य प्रारंभ किया तो दूसरी और गांव की पेयजल समस्या के निदान में आवश्यक कदम उठाए।


मप्र राज्य ग्रामीण आजिविका मिशन संकुल पेटलावद के तहत ग्राम संगठन दुल्लाखेड़ी की महिलाओं ने अपने स्वयं सहायता समूहों के सहयोग से ग्राम में कोचिंग सेंटर खोला। इसमें ग्राम की महिलाओं और इसमें ग्राम के ऐसे बच्चे भी आते हैं। जिनके घर से समूह में नहीं जुड़े हैं। जो कि मिलकर ग्राम के 64 बच्चों को पूर्णत: नि:शुल्क पढ़ाते हैं। इसमें महिलाओं ने कोचिंग के लिए शिक्षक रखा है। जो कि प्रतिदिन शाम के समय 6  से 7.30 बजे तक बच्चों को पढ़ाता है।. विशेष उपलब्धि तो ये है कि जो बच्चे स्कूल तक नहीं पहुंच पाए वे भी इस कोचिंग सेंटर में पढऩे बगैर दबाव के आते हैं। इससे ये बच्चे भी शिक्षा की मुख्य धारा से जुड़ रहे हैं। इस नि:शुल्क कोंचिग सेंटर का संचालन 12 समूह करते हैं साथ ही ग्राम संगठन ने सामाजिक उपसमिति भी बनाई हैं। जो कि इसका निरीक्षण भी करती हैं। यह अपने आप में एक समुदाय आधारित शिक्षा केंद्र बन गया है। इसका सम्पूर्ण खर्च यहां कि महिलाओं द्वारा उठाया जा रहा है।
आजीविका मिशन के संकुल समन्वयक पवन वैष्णव ने बताया गया कि स्वयं सहायता समूह में विभिन्न मुद्दों के साथ शिक्षा व्यवस्था पर भी ध्यान दिया जाता है। इसमें पढ़ाई के अतिरिक्त भविष्य नियोजन का भी गुर सिखाया जाता है।  
पेयजल समस्या का समाधान
ग्राम गरवाखेड़ी में लंबे समय से चली आ रही पेयजल की समस्या का समाधान कर ग्रामवासियों के सामने एक महिलाओं ने एक मिशाल पेश की।  ग्राम संगठन अध्यक्ष भूरी बाई एवं सदस्य रीना टिपोलिया ने बताया कि हमने ग्राम संगठन की बैठकों में गांव की प्रमुख समस्याओं पर बात की तो देखा की गांव में लंबे समय से पीने के पानी की समस्या है और ये गर्मी के दिनों में बहुत परेशानी का कारण बनती है। आजीविका मिशन द्वारा प्रशिक्षणों के माध्यम से गांव की समस्याओं को सामूहिक प्रयासों से कैसे दूर किया जा सकता है इस बारे में बताया जाता है। इसके बाद हम सब महिलाएं एकत्रित होकर ग्राम  उदय से भारत उदय अभियान की ग्राम सभा में गई और इस समस्या को हल करने के लिए आवेदन देकर तुरंत हल करने की बात रखी।  भूरी बाई के अनुसार इससे पूर्व भी कई बार ग्रामीणों ने ग्राम सभा में आवेदन दिया था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। परंतु इस बार हमने पूरी एकजुटता के साथ आवाज उठाई। हमारी हिम्मत को देखकर सरपंच औरा ग्राम संसद में आए अधिकारियों ने तुरंत कार्रवाई कर इसको हल करने का आश्वासन दिया। इसके बाद पाइप लाइन के लिए गडढे खुदवाने का काम शुरू कर दिया। पाचुड़ी बाई का कहना है कि हमारे गांव में पेयजल की समस्या खत्म होने जा रही है। क्योंकि हमने सामूहिक रूप से आवाज उठाई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned