सिविल सेवा की तैयारी छोड़ पिता के चुनाव कैम्पेन में जुटी है पूर्व मंत्री की ये बेटी

Nitin Srivastava

Publish: Feb, 17 2017 01:13:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
सिविल सेवा की तैयारी छोड़ पिता के चुनाव कैम्पेन में जुटी है पूर्व मंत्री की ये बेटी

चुनावी बयार में पिता की प्रतिष्ठा दांव पर लगी तो बेटी भारती आर्य ने पिता के साथ चुनावी मैदान में उतरकर उनके चुनाव की कमान संभालने का निर्णय लिया।

झांसी. चुनाव के मौसम में तरह तरह के रंग देखने को मिल रहे हैं। बुन्देलखण्ड में भी चुनावी रंग बेहद दिलचस्प होता जा रहा है। त्रिकोणीय चुनाव के बीच कई सीटों पर प्रचार के बीच प्रत्याशियों के समर्थन में चल रही रणनीति ध्यान खींचने की कोशिश करती है। बुन्देलखण्ड में कई सीटों पर स्थापित नेता अपनी नई पीढ़ी को मैदान में उतार चुके हैं तो कई पर प्रत्याशियों के युवा पुत्र-पुत्रियों ने चुनाव की कमान संभाल रखी है। झांसी में एक ऐसी विधान भा सीट है जहां से पूर्व मंत्री प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में है। इस प्रत्याशी की बेटी ने अपनी सिविल सेवा की तैयारियों को ब्रेक देकर चुनाव का सारा प्रबन्धन अपने कंधों पर संभाल रखा है।


Displaying IMG-20170216-WA0042.jpg


पिता की प्रतिष्ठा के लिये बेटी मैदान में

झांसी जनपद के मऊरानीपुर विधान सभा सीट से बिहारी लाल आर्य को भाजपा ने प्रत्याशी बनाया है। बिहारी पूर्व में कांग्रेस पार्टी में रहे हैं और दो बार विधायक रहने के साथ ही प्रदेश सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। पिछले विधान सभा चुनाव में वे कांग्रेस से चुनाव लड़े थे और हार गए थे। इस बार भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी बनाया है। बसपा ने इस सीट पर पूर्व विधायक प्रागी लाल अहिरवार को और सपा ने वर्तमान विधायक डॉ रश्मि आर्य को मैदान में उतारा है। चुनावी बयार में पिता की प्रतिष्ठा दांव पर लगी तो बेटी भारती आर्य ने पिता के साथ चुनावी मैदान में उतरकर उनके चुनाव की कमान संभालने का निर्णय लिया।

युवाओं और महिलाओं की टोली पर ख़ास नजर

भारती हर रोज पार्टी कार्यकर्ताओं और पिता के सहयोगियों से चुनावी जनसम्पर्क रणनीति पर चर्चा करती हैं। युवाओं और महिलाओं की टोली पर खासतौर से खुद नजर रखती हैं और नारे तैयार करवाती हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की योजनाओं का बखान कर लोगों से वोट की अपील करती हैं। भारती उन क्षेत्रों में भी जाती हैं जहां माना जाता है कि उनकी पार्टी के वोटर नहीं है। भारती कहती हैं कि वे सभी क्षेत्रों तक लोगों के पास पहुंचकर उनकी समस्या जानने की कोशिश करती हैं साथ ही उनके निराकरण का आश्वासन भी देती है। पिछले 18 दिनों से चुनाव प्रचार अभियान का जिम्मा संभाल रही भारती कई बार पिता से अधिक सक्रिय नजर आती हैं।




jhansi


बीटेक के बाद कर रही थी सिविल की तैयारी

गाजियाबाद के अजय कुमार गर्ग कालेज से बी टेक कर भारती दिल्ली में रहकर सिविल सेवा की तैयारी कर रही थीं। भारती की आठवीं तक की शिक्षा लखनऊ के सिटी मांटेसरी स्कूल से हुई है जबकि उसके बाद इंटर तक की पढाई झाँसी के मऊरानीपुर से हुई। पत्रिका संवाददाता से बातचीत में भारती ने कहा कि इतने दिनों में बहुत सारे लोगों से मिलना हुआ और लोगों ने बहुत सारी समस्याएं बताई हैं। इन सबको देखकर लगता है कि क्षेत्र के लोगों के प्रति जिम्मेदारी निभाने के लिये नई पीढ़ी को भी सामने आना पड़ेगा। भारती कहती हैं कि यदि चुनाव में उनके पिता जीत जाते हैं तो स्थानीय स्तर पर एक कार्यालय की शुरुआत कराकर जन समस्याओं के निराकरण की व्यवस्था की जायेगी। फिलहाल इस चुनाव के नतीजे चाहे जो हों लेकिन बेटी ने जिस तरह पिता के चुनाव की कमान संभाल रखी है, उसकी चर्चा लोग जरूर कर रहे हैं।


jhansi

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned