कविता दलाल का पैतृक गांव में पंहुचने पर जोरदार स्वागत

Yuvraj Singh

Publish: Jul, 18 2017 02:53:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
कविता दलाल का पैतृक गांव में पंहुचने पर जोरदार स्वागत

अमेरिका के फ्लोरिडा में चल रही डब्ल्यूडब्ल्यूई के 'माय यंग क्लासिक टूर्नामेंट' में भाग लेकर गई कविता दलाल का सोमवार

जींद। अमेरिका के फ्लोरिडा में चल रही डब्ल्यूडब्ल्यूई के 'माय यंग क्लासिक टूर्नामेंट' में भाग लेकर गई कविता दलाल का सोमवार को जुलाना पंहुचने पर लोगो ने जोरदार स्वागत किया। ग्रामीणों ने कविता को फूल मालाओं व नोटो की मालाओं से लाद दिया। ग्रामीण कविता को जुलाना से खुली जीप में ढोल-नगाड़ों के साथ उसके पैतृक गांव मालवी लेकर गए।

पिछले दिनों 14 व 15 जुलाई को अमेरिका के फ्लोरिडा में डब्ल्यूडब्ल्यूई की रेसलिंग हुई थी। इस रेसलिंग में फाइलन में पहुंचने वाले खिलाडिय़ों का चयन किया जाना था। जिसमें कविता दलाल ने फाइनल मुकाबले में पहुंचने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है हालांकि डब्ल्यूडब्ल्यूई के आयोजकों द्वारा फाइनल रिजल्ट घोषित नहीं किए गए है। लेकिन कविता दलाल को पूरा भरोसा है कि फाइनल में उनका सूची में नाम आना तय है। इसी को लेकर सोमवार को जुलाना के पुराने बस अड्डे पर गांव मालवी के ग्रामीण बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। जैसे ही डब्ल्यूडब्ल्यूई की (केडी लेडी) कविता दलाल जुलाना पहुंची ग्रामीणों ने फूल व नोटों की मालाओं से भव्य स्वागत किया गया और एक खुली जिप्सी में बैठाकर ग्रामीणों ने रेसलर कविता दलाल को उनके गांव मालवी ले जाया गया।

कविता दलाल ने बताया कि अमेरिका के फ्लोरिडा में जो डब्ल्यूडब्ल्यूई की फाइट हुई है उसमें फाइलन मुकाबले में आने वाले रेसलरों का चयन किया जाना है। अभी सूची जारी नहीं की गई है लेकिन उन्हें पूरा विश्वास है कि उनका फाइनल मुकाबले में सूची में नाम जारी किया जाएगा। ताकि वह फाइनल मुकाबले के लिए फाइट कर सके। कविता ने कहा क्षैत्र के लोगो ने उसे जो प्यार दिया है वह उनकी हमेशा आभारी रहूंगी और क्षैत्र का नाम चमकाने में कोई कसर नही छोडूंगी। इस मौके पर उनके साथ समाजसेवी आनंद लाठर, संदीप दलाल, चौरासी खाप का प्रधान भूप सिंह दलाल, पूर्णमल दलाल, बलवंत दलाल, मास्टर ओमप्रकाश, राजपाल, दयानंद, जयनारायण, सरपंच रामकला जांगड़ा सहित काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

कविता दलाल को देख झूमे ग्रामीण-
जैसे ही कविता दलाल अपने गांव मालवी पहुंची तो ग्रामीण कविता दलाल को देखकर झूम उठे। उन्हें इस बात से गर्व है कि उनकी गांव की लड़की भारत की पहली महिला डब्ल्यूडब्ल्यूई की रेसलर है। इससे ग्रामीणों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था और नोटों व फूलों की मालाओं से एक से बढ़कर एक सम्मानित करने का काम कर रहे थे। वहीं महिलाएं भी पीछे नहीं थी और अपनी बेटी को देखकर गले लगा रही थी और उसे आगे बढऩे के लिए प्रेरित कर रही थी ताकि गांव का नाम पूरे देश में रोशन किया जा सके।

भारतोलन में भी रही थी आगे, मुक्के जमाने में भी नहीं है पीछे-
कविता दलाल ने अपने केरियर की शुरूआत वेट लिफ्टिंग से की और वर्ष 2002 में कविता ने फ रीदाबाद में वेट लिफ्टिंग का प्रशिक्षण शुरू किया। वर्ष 2003 में कविता ने प्रशिक्षण के लिए बरेली साईं हास्टल में दाखिला लिया, लेकिन यहां के प्रशिक्षण से कविता संतुष्ट न हो पाई। वर्ष 2004 में कविता ने लखनऊ से अपना प्रशिक्षण शुरू किया, जो 2007 तक जारी रहा। वर्ष 2006 से 2015 तक के दौरान जितने भी चैपियनशीपों में भाग लिया उन सभी में कविता दलाल ने स्वर्ण पदक ही जीता है। ऐसे में जहां कविता दलाल भारतोलन में आगे रही है अब फाइट करने और मुक्के जमाने में पीछे नहीं है।

कविता दलाल की उपलब्धियां

1. वर्ष 2006 में आल इंडिया यूनिवर्सिटी चैंपियनशीप में स्वर्ण पदक जीता।
2. वर्ष 2007 में नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण जीता।
3. वर्ष 2008 में नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण जीता।
4. वर्ष 2010 में नेशनल वुशू चैंपियनशिप में स्वर्ण जीता।
5. वर्ष 2011 में राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण पदक जीता।
6. वर्ष 2013 में नेशनल भारोत्तोलन में स्वर्ण जीता।
7. वर्ष 2014 में नेशनल भारोत्तोलन में स्वर्ण जीता।
8. वर्ष 2015 में केरल में आयोजित राष्ट्रीय खेलों में स्वर्ण जीता।
9. वर्ष 2016 में गुवाहाटी में आयोजित साउथ एशियन गेम्स में स्वर्ण जीता।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned