राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित होते ही गांव में खुशी की लहर  

Ashish Pandey

Publish: Jun, 19 2017 10:01:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित होते ही गांव में खुशी की लहर  

गाँव के मकान के जर्जर होने पर उन्होंने उस जगह बारातशाला बनवाकर दान कर दिया था।  

कानपुर देहात. बचपन से पढ़ाई में मेधावी रहे कानपुर देहात के डेरापुर तहसील के एक छोटे से गाँव परौंख के रहने वाले रामनाथ कोविन्द को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जैसे ही राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया यहां के लोगों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। 
देश के सबसे बड़े संवैधानिक पद राष्ट्रपति के लिए नामित होने पर जिले में भाजपाइयों सहित अन्य लोगों में हर्ष व्याप्त है। ग्रामीणों ने बताया कि लोगों से तर्क वितर्क करना उनके स्वभाव में था, वे सरल स्वभाव के हैं। उनके पास जो भी जाता उससे वे बड़े प्रेम से मिलते। हम सबके लिए गर्व की बात है कि वे देश के राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं। 

भाइयों से मिला मार्गदर्शन
रामनाथ कोविंद पांच भाई हैं। जिसमें से दो भाई मोहनलाल और शिवबालक राम का देहांत हो चुका है। प्यारेलाल गांव में रहते हैं और रामस्वरूप भारती मध्य प्रदेश केे गुना में रहते हैं। भाई प्यारेलाल जो की फेरी लगाकर अपने परिवार का पालन पोषण करते थे जीवन की कठिन घडिय़ों में कैसे हालातों से निपटा जाता है। ये प्रेरणा उनसे मिली। इसके चलते वे अक्सर उनके पास बैठकर शिक्षा लिया करते थे, जिसके बाद उन्होंने कानपुर से बीएनएसडी से इंटर व डीएवी से स्नातक की पढ़ाई पूरी की। 

माँ फूलमती पिता के कार्यों में हाथ बटाया करती थीं। माता पिता के गुजरने के बाद कुछ वर्षों पूर्व बीमारी से बड़े भाई शिवबालक का देहांत हो गया इससे वे विचलित हो गए। गाँव के मकान के जर्जर होने पर उन्होंने उस जगह बारातशाला बनवाकर दान कर दी। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned