दिल्ली से निरीक्षण करने आए दल ने ओडीएफ की पोल खोली तो अधिकारियों ने होटल के बजाए रुकवाया ढाबे पर

Khargone, Madhya Pradesh, India
दिल्ली से निरीक्षण करने आए दल ने ओडीएफ की पोल खोली तो अधिकारियों ने होटल के बजाए रुकवाया ढाबे पर

दिल्ली से निरीक्षण करने आए दल ने ओडीएफ की पोल खोली तो अधिकारियों ने इन्हे इस तरह ढाबे पर रुकवायामध्यप्रदेश के जिला खरगोन के सनावद में नगरपालिका को ओडीएफ मुक्त घोषित कर दिया था, लेकिन दिल्ली से आए क्वालिटी ने नगर सुबह भ्रमण कर ओडीएफ की पोल खोल दी है...



खरगोन/सनावद. नगर में 8 फरवरी को हुए हितग्राही सम्मेलन में नपा ने नगर को ओडीएफ  मुक्त नगरपालिका का तमगा हासिल कर खूब वाहवाही लूटी, लेकिन दिल्ली से आए क्वालिटी इंजीनियर ने नगर का अलसुबह भ्रमण कर ओडीएफ  की पोल खोल दी। इंजीनियर ने अपने निरीक्षण प्रतिवेदन में स्पष्ट लिखा है कि नगर में मात्र 50 प्रतिशत ही शौचालय बने हैं। नगर की दस प्रतिशत जनता खुले में शौच करने जाती है।

यह भी पढ़ें - ऐसी जगह जहां बन रही है फिल्म 'रेवाÓ , अक्षय कुमार करेंगे 'ए टायलेटÓ की शूटिंग


दिल्ली से क्वालिटी कंट्रोल ऑफ  इंडिया के इंजीनियर नरेंद्र चौरसिया ने बुधवार सुबह 6 बजे नगर के विभिन्न वार्डों में भ्रमण कर वस्तुस्थिति देखी। उन्हें जहां-जहां नगरपालिका के अधिकारियों ने घुमाया वहां उन्होंने निरीक्षण किया, लेकिन इस दौरान चौरसिया वार्ड नंबर सात नदी किनारे पहुंचे तो सुबह से ही नदी में खुले में शौच करने वाले दर्जनभर लोग देखे गए। नपा अमले के साथ इंजीनियर को देखकर शौच करने वालों में हड़कंप मच गया।

यह भी पढ़ें - बचपन का दोस्त बताकर महिला को करता था फोन, पति ने गलतफहमी में आकर बोला तलाक दूंगा


 इंजीनियर नरेंद्र चौरसिया ने खुले में शौच करने वालों के मोबाइल से फोटो निकाले और नपा इंजीनियर को ओडीएफ  निकाय कैसे हो गई, प्रश्न पूछे। आगे वार्ड नंबर 9 व 10 की स्थिति भी इसी तरह थी। वार्ड 18 की स्थिति तो इतनी दयनीय थी कि चांदनीपुरा क्षेत्र में रहवासी खेतों एवं डिग्री कॉलेज के पीछे खुले में शौच के लिए जाते हुए दिखे। चौरसिया प्रत्येक क्षेत्र में खुले में शौच करने वालों को समझाइश देते रहे और नपा के अधिकारी-कर्मचारी पसीना पसीना हो रहे थे।

शौचालयों का निरीक्षण करने के लिए दिल्ली से आए क्वालिटी इंजीनियर ने मंगलवार की शाम नगर में प्रवेश किया। नपा के बाबू जो हमेशा ऐसे अधिकारियों को मैनेज करते हैं, उन्होंने इंजीनियर नरेंद्र चौरसिया को ठहराने के लिए नगर से पांच किलोमीटर दूर मोरटक्का के  ढाबे पर ठहराया। उन्हें मीडिया व पार्षदों से दूर रखा। सुबह 6 बजे नगरका निरीक्षण करवा दिया।

यह भी पढ़ें - Valentine's Day: 'उतार-चढ़ाव की इस डगर में,...इन कपल्स के प्यार की कुछ अलग है कहानी


ज्ञापन सौंपकर बताई वस्तुस्थिति
जब प्रभारी अध्यक्ष दिल्ली ने अधिकारी से आए अधिकारी चौरसिया को पार्षदों के हस्ताक्षर वाला ज्ञापन देकर वस्तुस्थिति बताई। इस बारे में बातचीत की तो उन्होंने बताया कि मैं तो मंगलवार रात को यहां आया। बुधवार को नगर के निर्माणाधीन कार्यों को देखा। मैंने इसकी फोटो लेकर दिल्ली के वरिष्ठ अधिकारियों को भेज दिया है। पार्षदों ने कहा कि की आपके आने की सूचना हमें नहीं दी। उन्होंने कहा है कि काम सीएमओ का है। मैंने तो जैसी स्थिति निर्माण कार्य की देखी है उसकी रिपोर्ट ऊपर दूंगा। महिला पार्षद शीतल शिंदे ने कहा की वार्ड नंबर 3 दलित बस्ती में रेलवे लाइन के पास 24 घंटे में 18 घंटे खुले में शौच होता है। यहां न तो शौचालय बना है न ही इसकी कोई पहल हुई है।

यह भी पढ़ें - फोटो गैलरी में देखें : प्रीति झिंगयानी ने खरगोन में कैसे लगाए ठुमके : सभी फोटो रोहित भावसार


कांग्रेस पार्षदों ने दिया ज्ञापन
इंजीनियर की जानकारी यहां के कांग्रेस पार्षदों को भी नहीं हुई। जब प्रभारी अध्यक्ष को पता चला कि कोई दिल्ली से अधिकारी यहां कुछ दूर मोरटक्का में एक निजी ढाबे पर रूके हैं, तो कांग्रेसी पार्षदों के साथ उनसे मिलने और स्थिति से अवगत कराने पहुंचे। बताया कि अभी हमारे वार्ड में शौचालय का निर्माण होना बाकी है। पार्षद जर्रार पेंटर एवं पार्षद प्रतिनिधि राम प्रजापत ने बताया कि सीएमओ बार-बार शौचालय पूर्ण होने के कागज पर हस्ताक्षर करवाने की बात करते हैं। हमारा कहना है कि हम अधूरे निर्माण को पूरा करने के बाद ही अपनी सहमति देंगे। कांग्रेस र्पाषद राजेंद्रसिंह परिहार और शेख साकेरिन ने कहा कि हमने नपा के सबइंजीनियर बलिराम बिरला से पूछा कि दिल्ली से अधिकारी कहां है, तो उन्होंने साफ  शब्दों में कहा कि हमें तो बाबा ने यहां खाना खाने बुलाया है।

यह भी पढ़ें - किसानों ने हाईवे पर लगाया जाम, की नारेबाजी, पुलिस ने पहुंचकर जबरन कराया रास्ता साफ
Clean India Mission -2 017

क्वालिटी इंजीनियर ने कहा
गुणवत्ता इंजीनियर नरेंद्र चौरसिया से पत्रिका प्रतिनिधि से मोबाइल पर चर्चा की तो उन्होंने कहा कि नगर के वार्डों में बन रहे शौचालय का काम कितना हुआ है, मैंने देखा और जो देखा इसकी रिपोर्ट दूंगा। अभी नगर में यह काम पिछड़ा हुआ है। स्वच्छता मिशन के तहत नगर पालिका द्वारा 18 वार्डोंं में 290 शौचालय बनाने का लक्ष्य रखा था। विभिन्न स्थानों पर कुछ बने हैं तो कुछ अधूरे हैं। इसे देखने के लिए ही मैं यहां आया था। नगर के चार-पांच वार्डों में रहवासी अभी भी खुले में शौच करते हैं। नपा ने कागजों पर ही अधिक कार्य किया है। जांच का प्रतिवेदन उच्च अधिकारियों को दूंगा।


यह भी पढ़ें - नवग्रह मेले में आएंगी मोहब्बतें फेम प्रीति झिंगियानी, वीडियो में बोलीं - I LOVE KHARGONE


290 शौचालयों का है लक्ष्य
सर्वे के अनुसार नगर पूर्ण ओडीएफ  हो चुका है। हमारा लक्ष्य 290 शौचालयों का था। हमने 380 शैाचालय बनवाए हैं। मांग के अनुसार और शौचालय बनाएंगे। दिल्ली से आए क्वालिटी कंट्रोल इंजीनियर इंजीनियर ने निरीक्षण किया। यह रूटीन प्रक्रिया थी।  खुले में शौच करने वालों को हम क्या, कोई भी रोक नहीं सकता।   
पीके सुमन, सीएमओ नपा सनावद


यह भी पढ़ें - अनोखी सुनवाई: वृद्धा को देख जज का पसीजा दिल, कोर्ट से बाहर सीढिय़ों पर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned