कांग्रेस- वाम विधायकों ने सर्वदलीय बैठक से मुंह मोड़ा

Mukesh Sharma

Publish: Dec, 01 2016 04:45:00 (IST)

Kolkata, West Bengal, India
कांग्रेस- वाम विधायकों ने सर्वदलीय बैठक से मुंह मोड़ा

दिसम्बर महीने में विधानसभा के प्रस्तावित अधिवेशन के कामकाज को लेकर विधानसभा अध्यक्ष विमान

कोलकाता।दिसम्बर महीने में विधानसभा के प्रस्तावित अधिवेशन के कामकाज को लेकर विधानसभा अध्यक्ष विमान बनर्जी की ओर से बुधवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक का  कांग्रेस व वाममोर्चा के विधायकों ने बहिष्कार किया। बैठक में भाजपा के अध्यक्ष व विधायक दिलीप घोष ने हिस्सा लिया। बैठक में राज्य के संसदीय व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी, बिजली मंत्री शोभनदेव चट्टोपाध्याय, मुख्य सचेतक निर्मल घोष, मानस रंजन भुईंया, सोनाली गुहा, मलय घटक, सुजीत बोस, तापस राय सहित अन्य ने हिस्सा लिया। बाद में विधानसभा अध्यक्ष की अध्यक्षता में बिजनेस एडवाइजरी कमेटी की बैठक हुई।


 इस बैठक में कांग्रेस के विधायक मनोज चक्रवर्ती व माकपा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने हिस्सा लिया। कांग्रेस विधायक दल के नेता अब्दुल मन्नान ने कहा कि राज्य सरकार कभी भी उन लोगों का कोई भी प्रस्ताव नहीं मानती है। ऐसी स्थिति में बैठक में जाने का कोई अर्थ ही नहीं है। उन्होंने कहा कि अधिवेशन में कांग्रेस ने नियम 185 के तहत राज्य में शिशुओं की तस्करी पर प्रस्ताव लाएगी। इसके साथ ही राज्य सरकार की विफलता के खिलाफ विधानसभा में  अविश्वास प्रस्ताव भी लाया जाएगा।  

दूसरी ओर, संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि बैठक सरकार ने नहीं बल्कि विधानसभा अध्यक्ष ने बुलायी थी। कांग्रेस व वामोमोर्चा के विधायकों ने बैठक में हिस्सा नहीं लेकर विधानसभा अध्यक्ष का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि विधानसभा का सत्र दो दिसंबर से शुरू होगा। इस दौरान 13 विधेयक लाए जायेंगे। साथ ही नियम 169 के तहत राज्य सरकार की ओर से नोटबंदी के खिलाफ प्रस्ताव लाया जाएगा। नोटबंदी के खिलाफ विधानसभा में ढाई घंटे तक बहस होगी। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के खिलाफ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी देश में जगह-जगह सभा कर रही हैं और विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस की ओर से सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा। चटर्जी ने कहा कि सरकार को पूर्ण बहुमत है। मन्नान का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned