बैंकों में पहुंचा वेतन, दोपहर तक खाली हुए एटीएम, शाखाओं में लगी लंबी-लंबी कतारें

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Dec, 02 2016 12:42:00 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
बैंकों में पहुंचा वेतन, दोपहर तक खाली हुए एटीएम, शाखाओं में लगी लंबी-लंबी कतारें

सेलरी साप्ताह के पहले दिन दोपहर तक शहर के अधिकांश एटीएम ड्राइ हो गए। वेतन और पेंशन निकालने के लिए लोग बैंकों की कतार में खड़े हुए।

कोरबा. सेलरी साप्ताह के पहले दिन दोपहर तक शहर के अधिकांश एटीएम ड्राइ हो गए। वेतन और पेंशन निकालने के लिए लोग बैंकों की कतार में खड़े हुए।

छोटे नोट नहीं मिलने के कारण परेशान नजर आए। कुछ बैंकों मेें नोटे  नहीं होने की जानकारी खातेदारों को दी।  
सरकारी विभागों में काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन को उनके बैंक खाते में डालने का काम शुरू हो गया है।

 सीएसईबी के अधीन नियोजित चार हजार से अधिक कर्मचारियों का वेतन खाते में जमा हो चुका है। प्रशासनिक खजाने से 70 फीसदी कर्मचारियों के वेतन का भुगतान किया जा चुका है।

एनटीपीसी और एसईसीएल में भी भुगतान की प्रक्रिया शुरू की गई है। यानी कर्मचारी खाते से वेतन के रुपए निकाल सकेंगे।

गुरुवार सेलरी साप्ताह का पहला दिन था। वेतन भुगतान के लिहाज से यह सप्ताह काफी महत्वपूर्ण है। पहले ही दिन शहर के अधिकांश एटीएम दोपहर तक खाली हो गए। जिन मशीनों से रुपए निकल रहे थे,

उसमें 100 रुपए के नोट नहीं थे। दो हजार रुपए के नए नोट निकल रहे थे। इससे लेकर लोग परेशान हुए। कुछ घर लौट गए तो कुछ लोगों ने बैंक की ओर रूख किया।

इससे बैंकों में थोड़ी भीड़ बढ़ी। स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और एचडीएफसी में लोगों की  अधिक भीड़ जुटी। वेतन निकालने वालों के साथ पेंशनर्स भी बैंकों की शाखाओं तक पहुंचे। इससे लाइन थोड़ी लंबी हुई। संभावना है कि शुक्रवार से बैंकों में लाइन लंबी हो सकती है।

24 हजार से अधिक नहीं
विमुद्रीकरण के बाद नगदी संकट से निपटने के लिए सरकार ने बैंकों से राशि निकालने की सीमा तय की है। इस शर्त के अनुसार किसी भी सरकारी कर्मचारी को बैंक से 24 हजार रुपए से अधिक नगदी का भुगतान नहीं किया रहा है।

नहीं पहुंचे 500 के नोट
नोटबंदी के 23 दिन बाद भी 500 रुपए के नोट कोरबा नहीं पहुंचे हैं। 100 रुपए के नोट भी मांग के अनुसार नहीं मिल रहे हैं। इससे बाजार में चिल्हर की कमी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned