संभल कर चलें, डेंजर प्वाइंट बन गए हैं जानलेवा, सावधानी जरूरी

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jan, 13 2017 01:49:00 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
संभल कर चलें, डेंजर प्वाइंट बन गए हैं जानलेवा, सावधानी जरूरी

सड़क सुरक्षा साप्ताह शुरू हो गया है। सात दिन तक पुलिस यातायात नियमों की जानकारी देगी। लोगों से  ट्रैफिक नियम को पालन करने के लिए कहेगी।

कोरबा.  सड़क सुरक्षा साप्ताह शुरू हो गया है। सात दिन तक पुलिस यातायात नियमों की जानकारी देगी। लोगों से  ट्रैफिक नियम को पालन करने के लिए कहेगी।

चालकों को समझाइस देगी। शहर के भीतर और बाहर करीब दो दर्जन स्थान ऐसे हैं, जहां आए दिन सड़क हादसे होते हैं। इस कारण इन स्थानों को डेंजर प्वाइंट कहा जाने लगा है।

सफर के दौरान यहां सावधानी बेहद जरूरी है। थोड़ी चूक  जीवन पर भारी पड़ सकती है। 

ये हैं जानलेवा स्थान
कोहडिय़ा बस्ती : कोहडिय़ा बस्ती के पास ढलानयुक्त अंधा मोड़ है। दोनों तरफ से तेज रफ्तार में वाहन मुड़ते हैं। इसी कारण अक्सर वाहनों में आमने-सामने टक्कर होती रहती है।

हादसे के लिहाज से कोहडिय़ां मार्ग बेहद संवेदनशील है। पिछले साल इस मार्ग पर तीन लोगों की मौत हुई है। आधा दर्जन से अधिक सड़क दुर्घटनाएं हुई है। 

सर्वमंगला चौक :
सर्वमंगला मंदिर के समीप स्थित चौक और पुल पर चौबीस घंटे भारी वाहनों की आवाजाही रहती है। भारी वाहनों को चालक लापरवाहीपूवर्क मोड़ते हैं।

इससे छोटे वाहन सवारों को खतरा रहता है। पिछले साल पुल पर एक किशोरी सहित लोगों की मौत हो चुकी है।

बायपास और मुड़ापार तिराहा : कोयला से भरे भारी वाहनों का दबाव इसी चौक पर सबसे ज्यादा रहता है। नो-एंट्री में भी तेज रफ्तार से भारी वाहन चौक पर दौड़ते हैं।

मुड़ापार तिराहा के आसपास सड़कें भी गड्ढेदार है। पिछले साल बुधवारी बाजार के पास हुए हादसे में युवक की मौत हो गई थी।

महाराणा प्रताप चौक : ट्रांसपोर्ट नगर, सीएसईबी चौक के बाद महाराणा प्रताप चौक पर यातायात का दबाव रहता है। चौक के पास साप्ताहिक बाजार भी लगता है। पूरे समय यहां से भारी वाहन गुजरते हैं।

कोसाबाड़ी तिराहा : हनुमान मंदिर के पास अंधा मोड़ होने के कारण रजगामार की ओर से आने वाले वाहन चालकों को चौक दिखाई नहीं पड़ता है।

वाहन की रफ्तार तेज होने पर अक्सर सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। हाल में निगम ने कोसाबाड़ी चौक के आकार को छोटा किया है।  लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा चौक के बाजू में शिफ्ट की गई है। 

दर्री डेम : शहर के सबसे खतरनाक मोड़ों में से एक दर्री डेम मोड़ भी है। इस डेंजर प्वाइंट पर भारी वाहनों का चौबीसों घंटे परिचालन होता है। भारी वाहनों के चालक मोड़ पर रफ्तार कम ही नहीं करते हैं।

बरॉज पर स्थित जल संसाधन विभाग के दफ्तर के सामने अक्सर सड़क दुर्घटनाएं होती हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned