गेवरा खदान में पहले आगे बढ़ी फिर ढलान पर फिसली डंपर... थम नहीं रहे हादसे

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jul, 17 2017 07:01:00 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
गेवरा खदान में पहले आगे बढ़ी फिर ढलान पर फिसली डंपर... थम नहीं रहे हादसे

एसईसीएल की गेवरा खदान दुर्घटनाएं जारी हैं। सोमवार तड़के चढ़ाई चढ़ते समय एक डंपर पीछे लुढक गई। जान बचाने के लिए ऑपरेटर ने छलांग लगा दी।

कोरबा. एसईसीएल की गेवरा खदान दुर्घटनाएं जारी हैं। सोमवार तड़के चढ़ाई चढ़ते समय एक डंपर पीछे लुढक गई। जान बचाने के लिए ऑपरेटर ने छलांग लगा दी। जान तो बच गई, लेकिन एक पैर की हड्डी टूट गई। उसे बिलासपुर रेफर किया गया है।

घटना सोमवार तड़के की बताई जा रही है। बिरदा निवासी राकेश कुमार राजवाड़े एसईसीएल के अधीन गेवरा खदान में नियोजित है।

सोमवार तड़के डंपर क्रमांक 1555 पर खदान से कोयला लेकर स्टाक जा रहा था। बरसात में खदान की मिट्टी गिली होने के कारण डंपर चढ़ाई नहीं चढ़ सकी।

राकेश ने डंपर को पीछे कर दोबारा चढ़ाई चढऩे की कोशिश की। इसबीच पीछे से आ दूसरी डंपर क्रमांक 126 के चालक संतोष जायसवाल ने राकेश को ओवर टेक कर आगे बढ़ा।

संतोष की गाड़ी भी चढ़ाई पर फिसलने लगी।  संतोष ने गाड़ी को एक बार पीछे कर दोबार चढऩे की कोशिश की। डंपर तेजी से पीछे की ओर फिसली। संतोष गाड़ी को नियंत्रित नहीं कर सका।

डंपर का फिछला हिस्सा राकेश की डंपर कैबिन से टकरा गई। अपनी जान बचाने के लिए राकेश डंपर छोड़कर कूद गया।

जान तो बच गई, लेकिन चोट लगने से उसके पैर की हड्डी टूट गई। घायल को एनसीएच गेवरा लाया गया। यहां से प्राथमिक इलाज के बाद बिलासपुर आपोलो रेफर किया गया। दुर्घटनाग्रस्त डंपर की भार वहन क्षमता 100, 100 टन है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned