सत्ताधारी पार्षदों के बागी तेवर से उर्जाधानी की सियासत में उबाल, पार्टी को किनारे रख हुए एकजुट

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jul, 17 2017 01:12:00 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
सत्ताधारी पार्षदों के बागी तेवर से उर्जाधानी की सियासत में उबाल, पार्टी को किनारे रख हुए एकजुट

निगम के अब तक इतिहास में पहली बार नेतागिरी छोड़ पार्षदगिरी चल रही है। पार्टियों को किनारे कर सारे पार्षदों ने एकजुट होकर निगम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कोरबा. निगम के अब तक इतिहास में पहली बार नेतागिरी छोड़ पार्षदगिरी चल रही है। पार्टियों को किनारे कर सारे पार्षदों ने एकजुट होकर निगम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। रविवार को पंचवटी में पार्षदों की सर्वदलीय गोपनीय बैठक रखी गई थी।

बैठक में कांग्रेस के 12 कददवर पार्षदों की उपस्थिति सबको चौकानें वाली थी। पहली बार खुले तौर पर कांगे्रसी पार्षद अपने ही सत्ता के खिलाफ जाकर विपक्ष के साथ हाथ मिलाया गया। स्ताधारी पार्षदों के बागी तेवर से कोरबा की सियासत में उबाल आ गया है।

अब तक दबे जुबन अपने पार्टी के आलाकमान और निगम के कामकाज से नाराज रहने वाले कांग्रेसी पार्षद अब सामने आकर अपने सत्ता के खिलाफ हो गए हैं।

रविवार को पंचवटी में सर्वदलीय पार्षदों की बैठक रखी गई थी। विपक्षी पार्षदों को उम्मीद नहीं थी कि कोई भी कांग्रेसी पार्षद बैठक में पहुंचेेगा। लेकिन बैठक में एक-एक करके 12 वरिष्ठ कांग्रेसी व एमआईसी पार्षद पहुंचे गए।

इनको देख बीजेपी और निर्दलीय पार्षद भी हक्के-बक्के रह गए। बैठक में प्रमुख तौर पर निगम के कामकाज में देरी, पार्षदों की उपेक्षा, जरूरत के आधार पर काम नहीं होना, ठेकेदारों का हावी होना, अफसरोंं के रवैये से नाराजगी और सत्ता पक्ष का सहयोग नहीं देने पर चर्चा हुई।

स पर सभी पार्षद चाहे वे सत्ता के हो या फिर विपक्ष और निर्दलीय पार्षदों ने खुलकर बातें रखी। पार्षद निगम के कामकाज से खासे खफा है। इनका कहना था कि कामकाज में पार्षदों की अनदेखी की जा रही है।

जो प्रस्ताव उनके द्वारा दिए जाते हैं उनके बजाए अन्य कार्य जिसकी जरूरत भी नहीं है  उनको कराया जा रहा है। यहां तक उसकी जानकारी भी उनको नहीं दी जाती है।

इस दौरान बैठक में प्रमुख तौर पर नेता प्रतिपक्ष योगेश जैन, शिव अग्रवाल, हित्तानंद अग्रवाल, अमरनाथ अग्रवाल, निमा देवांगन, रवि गुप्ता, अब्दूल रहमान सहित सभी बीजेपी पार्षद, एल्डरमेन और निर्दलीय पार्षद शामिल हुए।

ये 5 निर्णय लिए गए-
0सभी दलों के 12 पार्षदों की एक समन्वय समिति बनाई जाएगी। समिति पूरे 67 कार्यों पर नजर रखेगी साथ ही पार्षदों को हो रही परेशानियों को अफसरों के सामने रखेगी।

0बजट के बाद से साढ़े तीन माह बीत गए अब तक सामान्य सभा नहीं हुई लिहाजा  एक प्रस्ताव बनाया जिसमें सभापति से जल्द बैठक बुलाने की मांग की जाएगी।

0ठेकेदारों के गुणवत्ताहीन निर्माण पर कार्रवाई के लिए हर वार्ड से कामवार सूची बनाई जाएगी।

0पार्षदों द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर पहले काम करने के लिए प्रस्ताव बनाया गया।

0अधिकारियों का रवैय्या अगर पार्षदों के प्रति गलत होता है तो इसके खिलाफ विरोध।
    
अध्यक्ष बोले कार्रवाई करेंगे-
रविवार को इस तरह की हुई बैठक के सबंध में मुझे किसी प्रकार की जानकारी नहीं है। पार्टी के पार्षद और एमआईसी सदस्यों ने इसके लिए अनुमति भी नहीं ली है। अगर वे शामिल हुए होंगे तो उनपर पार्टी विरोधी काम करने के आरोप में निश्चित तौर पर कार्रवाई करेंगे।
-राजकिशोर प्रसाद, अध्यक्ष, शहर कांग्रेस कमेटी कोरबा

कहीं कोई भेदभाव नहीं हो रहा
- सभी वार्ड में काम चल रहा है। कहीं कोई भेदभाव नहीं हो रहा है। कुछ कार्य तकनीकी वजह या फिर टेंडर में देरी हो जाती है। पार्षदों के मांग पर खास तौर पर ध्यान देकर काम कराया जा रहा है।
-अजय अग्रवाल, आयुक्त, नगर निगम कोरबा

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned