एक Road ने बदल दी जिंदगी, 54 Families की गिनती न शहर और न ही गांव में!

Pranayraj rana

Publish: Feb, 16 2017 06:48:00 (IST)

Koriya, Chhattisgarh, India
एक Road ने बदल दी जिंदगी, 54 Families की गिनती न शहर और न ही गांव में!

भंडारदेई के मौहारीपारा व अगरियापारा में निवासरत है475 ग्रामीण, नगर निगम चिरिमिरी के वार्ड क्रमांक-25 में आता है भंडारदेई गांव

चिरिमिरी. जिला प्रशासन ने ग्राम भण्डारदेई को परिसीमन कर 54 परिवार के 475 सदस्यों की चिंता बढ़ा दी है। भण्डारदेई के दो मोहल्ले मौहारीपारा व अगरियापारा के ग्रामीणों की नगर निगम चिरिमिरी में रिकार्ड दर्ज है और मतदाता परिचय पत्र, राशन कार्ड उपलब्ध कराया गया है। लेकिन निगम प्रशासन ने ग्रामीणों को शहर का हिस्सा मानने से इंकार कर ग्राम पंचायत दूबछोला का हिस्सा बता दिया है।

इससे ग्रामीणों को निगम क्षेत्र के राशन दुकान से राशन देना भी बंद कर दिया है। गौरतलब है कि गांव के बीच से होकर सड़क गुजरी है। सड़क के उस पार के हिस्से को ग्राम पंचायत दूबछोला की सभी सुविधाएं मिलती है। वहीं सड़क के दूसरा हिस्से में रहने वाले ग्रामीणों को राशन मिलना भी मुश्किल हो गया है।

नगर निगम चिरिमिरी के वार्ड क्रमांक-25 भण्डारदेई में रहने वाले 54 परिवार के 475 सदस्यों को राशन कार्ड से सरकारी राशन देना बंद कर दिया गया है। यह एरिया शहर की पहाडिय़ों के तराई में बसा गांव है। जिला प्रशासन की परिसीमन के बाद दो मोहल्ले मौहारीपारा और अगरियापारा के ग्रामीणों को पंचायत और न ही नगर निगम का हिस्सा मान रहे हैं।

गांव के बीच से होकर सड़क गुजरी है। सड़क के उस पार के हिस्से को ग्राम पंचायत दूबछोला की सभी सुविधाएं मिलती है। वहीं सड़क के दूसरा हिस्से में रहने वाले ग्रामीणों को राशन मिलना भी मुश्किल हो गया है। भण्डारदेई के ग्रामीण बकायदा चुनाव में वार्ड क्रमांक-25 में अपने मताधिकार का प्रयोग करते हैं।

लेकिन  चुनाव के बाद नगर पालिका अपना हिस्सा मानती है और न ही पंचायत मानती है। मौहारीपारा और अगरियापारा के लोग लोकसभा और विधानसभा चुनाव में चिरमिरी नगरपालिका में वोट डालते हैं। इसी वजह से पंचायत अपना हिस्सा नहीं मानती है। वहीं मोहल्ला ग्राम पंचायत में होने के कारण विकास कार्य नहीं कराती है।

जिससे पिछले करीब 50 साल से बिजली सहित अन्य बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराई गई है। वोटर्स के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले मोहल्लों का पंचायत और निगम के नक्शे में कोई नाम तक नहीं है।
 
वोटर आईडी में चिरमिरी कॉलरी दर्ज
भंडारदेई के अगरियापारा व मौहारीपारा मोहल्ले के ग्रामीणों के वोटर आईडी में चिरमिरी कॉलरी लिखा है। इसके अलावा गोदरीपारा के आजाद नगर और एकता नगर, बरतुंगा के अधिकतर नागरिकों के वोटर आईडी में ग्राम भंडारदेई लिखा गया है। लेकिन सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं मिल रहा है। भंडारदेई गांव में 50 साल से बिजली और पानी का अभाव है। वहीं ढोड़ी का पानी पीने को मजबूर हैं।

ली जाएगी जानकारी
मुझे इस पद पर पदस्थ हुए ज्यादा समय नहीं हुआ है। संबंधित अधिकारियों को भेज कर मामले की जानकारी ली जाएगी। लोगों को सुविधाएं उपलब्ध कराना हमारी पहली प्राथमिकता होगी।
बीएल सुरक्षित, आयुक्त नगर निगम चिरमिरी

कुछ समझ में नहीं आ रहा
कई सालों से मोहल्ले को देखता आ रहा हूं। मुझे खुद समझ में नहीं आता है कि आखिर इस मोहल्ले के लोग किस क्षेत्र के निवासी हैं। वोट डालने लगभग 60 लोग नगर निगम क्षेत्र चिरमिरी के वार्ड क्रमांक- 25 में जाते हैं। जबकि कुछ लोग पंचायत क्षेत्र में ही मतदान करते हैं। ऐसे में क्षेत्र के विकास की जिम्मेदारी आखिर किसकी है। ये अभी भी समझ से परे है।
हरि सिंह, सरपंच ग्राम पंचायत दुपछोला

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned