बाढ़-बचाव कार्य में जुटा मजदूर नदी में बहा, अब तलाश में जुटी एनडीआरएफ की टीम

Kushinagar, Uttar Pradesh, India
बाढ़-बचाव कार्य में जुटा मजदूर नदी में बहा, अब तलाश में जुटी एनडीआरएफ की टीम

 बंधे पर काम करते समय हुआ हादसा

कुशीनगर. बाढ़ बचाव कार्य के दौरान बंधे पर काम करते समय गंडक नदी में मजदूर के बहने के तकरीबन चौबीस घंटे के बाद भी मजदूर का कोई सुराग नहीं लगाया जा सका। एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंचकर लगातार तलाश कर रही है पर अब तक पता नहीं लगाया जा सका। 

बतादें कि  जिले के एपी तटबन्ध के विरवट कोन्हवलिया ठोकर पर बाढ़ बचाव कार्य में लगे एक मजदूर का संतुलन बिगड जाने से रविवार को वह बड़ी गंडक नदी में गिर गया था। उसके साथी मजदूरों ने उसे बचाने का भरपूर प्रयास किया, लेकिन नदी की तेज धारा मजदूर को बहा ले गई। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंचे एसडीएम तमकुहीराज के देखरेख में गोताखोरो की मदद से युवक की तलाश जारी है। पर तकरीबन 24 घंटे बीत जाने के बाद अब तक युवक का पता नहीं लगाया जा सका। 


तरयासुजान थाना क्षेत्र के विरवट कोन्हवलिया गांव निवासी दुर्गेश गुप्ता एपी तटबन्ध के विरवट कोन्हवलिया ठोकर पर हो रहे बाढ़ बचाव कार्य में मजदूरी पर लगा हुआ था। रविवार की शाम वह बोल्डर व प्लास्टिक की बोरी में मिट्टी भरकर नदी किनारे डंप कर रहा था।  तभी अचानक उसका संतुलन बिगड़ गया और वह नदी मे गिर गया।



बाढ़ बचाव कार्य में लगे उसके साथी मजदूर शोर मचाते हुए दुर्गेश को बचाने की कोशिश करने लगे। परंतु उसे बचाया नहीं जा सका। बड़ी गंडक नदी की वेगवती धारा दुर्गेश को बहा ले गयी। सूचना पाकर एसडीएम तमकुहीराज विपिन कुमार सहित मुकामी थाने की पुलिस व राजस्व कर्मी मौके पर पहुंच गये। एसडीएम के देखरेख मे देर शाम तक गोताखोरो की मदद से युवक की तलाश जारी रही पर पता नहीं लगाया जा सका। बाद मे एनडीआरएफ की टीम भी पहुंचकर तलाश में जुट गई पर अब तक उसका पता नहीं चल सका। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned