जनपद में बीजेपी का पिछड़ा वर्ग सम्मेलन हुआ फ्लॉप सो सावित

Abhishek Gupta

Publish: Nov, 30 2016 10:35:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
जनपद में बीजेपी का पिछड़ा वर्ग सम्मेलन हुआ फ्लॉप सो सावित

पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में नहीं आई उम्मीदों के अनुरूप जनता जनार्दन, सम्भावित प्रत्याशियों ने दिखाया दमखम, पिछडा वर्ग सम्मेलन में सभी वर्गों के व्यक्तियों ने लिया भाग 

ललितपुर- किसी भी कार्यक्रम को सफल बनाने में जनता जनार्दन का बहुत बड़ा हाथ होता है। जिला मुख्यालय के गिन्नौट बाग़ में भाजपा ने पिछडा वर्ग सम्मेलन का आयोजन किया था, और इस आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य को आना था, लेकिन किन्ही कारणों की वजह से उनका आना निरस्त हो गया।  जब यह खबर नगर में फैली तो तरह तरह की अफवाएं भी फैलने लगी और बीजेपी कार्यकर्ताओं में मायूसी छा गई।

वैसे आप को बताते चले कि बीजेपी में बड़े नेताओं का किसी भी कार्यक्रम में आना पहली बार रद्द नहीं हुआ। इसके पहले बीजेपी की परिवर्तन यात्रा का सुभारम्भ भी ललितपुर जनपद के देवगढ़ से होना था। मगर उसे भी बदल कर झांसी से कर दिया गया था। उस समय भी बीजेपी के कार्यकर्ता निराश हुए थे। पिछड़ा वर्ग सम्मेलन जनपद में भाजपा के निये फ्लॉप शो के रूप में जाना जाएगा क्योंकि इसके पहले परिवर्तन यात्रा भी फ्लॉप शो साबित हो चुका है। इस सम्मेलन के फ्लॉप होने का सबसे बड़ा कारण प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य का इस सम्मेलन में न आना और प्रदेश पिछडावर्ग अध्यक्ष राजेश बर्मा की ट्रेन का बिलम्ब से होना है।

इस पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में  मानवेन्द्रसिह क्षेत्रीय अध्यक्ष बुन्देल खण्ड रहे । सम्मेलन सम्भावित प्रताशियो की जोर अजमाइस का केन्द्र बना रहा  पिछडे वर्ग के नाम पर बुलाये गये सम्मेलन में  सभी वर्ग के सम्भावित प्रताशियो दुवारा अपना  पूरा दमखम  दिखाने का प्रयास किया गया वही पिछडे वर्ग के नैतागण ढोल नगाडो के बीच अपने  समर्थकों के साथ सभा स्थल पहुंचे।

वही दलबदल कर आ रहे नेताओ का मंच पर अग्रिम पन्ति में बैठना भी चर्चा का विषय रहा। विगत कुछ दशक पूर्व पिछडे वर्ग का जो नया जातीय समीकरण उभरा था उसने भाजपा की जनपद में जमीन हिला कर रख दी थी और जो भाजपा जनपद की दोनों सीट जीतती रही थी उसे अपनी जमानत बचाने के लाले पड़ने लगे। इस कारण पिछड़ा वर्ग सम्मेलन आयोजित कर पुन: अपनी ओर लुभाने की भाजपा की कोशिश कितनी कारगर होती है यह तो समय की गर्त में छिपा है पर भीड का न जुटना इस बात की ओर जरूर इशारा करता है कि जनपद में भाजपा की दिल्ली अभी दूर है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned