नोटबंदी 12 लाख करोड़ का घोटाला, केजरीवाल लखनऊ में करेंगे खुलासा

Rohit Singh

Publish: Dec, 02 2016 02:24:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
नोटबंदी 12 लाख करोड़ का घोटाला, केजरीवाल लखनऊ में करेंगे खुलासा

नोटबन्दी मोदी सरकार की ओर से किया गया 12 लाख करोड़ का घोटाला है। जो देश के उद्योगपतियों के 8 लाख करोड़ के कर्जे को माफ़ करने के लिए किया गया है।

लखनऊ। दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में 7 दिसम्बर को और 18 दिसम्बर को लखनऊ में रैली करेंगे। इन रैलियों में वह मोदी सरकार के नोटबंदी के फरमान की असलियत जनता के सामने लायेंगे।

18 दिसम्बर को लखनऊ के रौफ ए आम क्लब मैदान में प्रस्तावित रैली में सीएम अरविन्द केजरीवाल के साथ संजय सिंह, आशुतोष और आशीष खेतान प्रमुख रूप से मौजूद रहेंगे। ये जानकारी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने पत्रिका डॉट कॉम से बातचीत में बताया। उन्होंने कहा कि लखनऊ में होने वाली रैली में दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल जनता के सामने नोटबंदी की असलियत का खुलासा करेंगे।

वैभव ने बताया कि नोटबन्दी मोदी सरकार की ओर से किया गया 12 लाख करोड़ का घोटाला है। जो देश के उद्योगपतियों के 8 लाख करोड़ के कर्जे को माफ़ करने के लिए किया गया है। इस फैसले से देश का आम आदमी, किसान, व्यापारी तबाह हो गया है। अस्पतालों में तमाम गंभीर मरीजों की मौत हो गयी है। आखिर इसका जिम्मेदार कौन है।

नोटबंदी के बाद दावा किया जा रहा था कि काला धन वापस आएगा लेकिन इतने दिन बीत जाने के बाद भी ऐसा कुछ नहीं हुआ। केवल और केवल आम आदमी को परेशानी हुई है। मतलब साफ़ है मोदी सरकार उद्योगपतियों की सरकार है, इसका आम आदमी से कोई लेना-देना नहीं।

उन्होंने बताया कि नोटबंदी के अलावा रैली में प्रदेश में क़ानून व्यवस्था, बेरोजगारी, राष्ट्रवाद के नाम पर वोट लेना, स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति, दंगे फसाद कराकर वोट बैंक अर्जित करना सहित तमाम गंभीर मुद्दों पर केंद्रित होगी।

कुमार विश्वास पर असमंजस
वैभव ने बताया कि 18 दिसम्बर को लखनऊ में होने वाली रैली में पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास और मनीष सिसौदिया आएंगे या नहीं। अभी इस पर असमंजस बना हुआ है। क्योंकि इनका प्रोग्राम अभी फाइनल नहीं हो पाया है।

आप लड़ सकती है चुनाव
आम आदमी पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव 2017 लड़ेगी या नहीं। इस बारे में पार्टी की ओर से कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गयी है। पार्टी के गुप्त सूत्रों के मुताबिक़ पिछले एक हफ्ते से पार्टी के प्रदेश अधिकारियों से लगातार पार्टी की विधानसभा वार स्थिति की रिपोर्ट मांगी जा रही है। इससे ये लग रहा है कि इन रिपोर्ट्स की समीक्षा के बाद पार्टी आगामी यूपी चुनाव को लेकर फैसला ले सकती है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned