256वां युगऋषि वांड़मय साहित्य की स्थापना

Ritesh Singh

Publish: Feb, 17 2017 06:06:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
256वां युगऋषि वांड़मय साहित्य की स्थापना

छात्र-छात्राओं को इस अमूल्य ज्ञान की प्राप्ति

लखनऊ,गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत कृष्णा इंस्टीट्यूट आफ एजूकेशन सीतापुर रोड, वीकेटी, लखनऊ के केन्द्रीय पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं0 श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 70 खण्डों का वांड़मय साहित्य की स्थापना किया गया। उपरोक्त साहित्य पूर्व प्रबन्धक यूनियन बैंक प्रकाश राजपूत ने अपनी मॉ की स्मृति में भेंट किया।

इस अवसर पर वांड़मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमा नंद शर्मा ने अपने विचार रखते हुए कहा कि मानवेय मुल्क एवं व्यवसायिक नैतिकता की शिक्षा देने में ऋषि वांड़मय समर्थ है। छात्र-छात्राओं को इस अमूल्य ज्ञान की प्राप्ति इस ऋषि साहित्य से हो सकती है। इस पवित्र भाव से ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत विभिन्न शिक्षण संस्थानों में गायत्री परिवार द्वारा वांड़मय साहित्य की स्थापना करायी जा रही है।

यह लखनऊ राजधानी में 256वां है। आगे भी निरन्तर यह कार्यक्रम चलता रहेगा। इस अवसर पर डा.नरेन्द्र देव ने अपने उद्वभोदन में छात्र-छात्राओं को निरोग्य जीवन जीने की गुणसूत्र भी दिये। संस्थान की प्रमुख डा.मलिका परिमार ने छात्र-छात्राओं को अपने शिक्षा के साथ-साथ इसी ऋषि साहित्य स्वध्याय करने की सलाह दी और कहा कि यह साहित्य व्यक्ति के जीवन को प्रस्किृत कर एक शानदार व्यक्ति बना सकता है। सभी छात्र-छात्राओं को व्यक्तिगत रूप से युग निर्माण पत्रिका भी भेंट किया गया और इस अवसर पर अनिल भटनागर उमा नंद शर्मा, डा.नरेन्द्र देव, पूरन चंद बेलवाल सहित सभी संकाय सदस्य छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned