दीपावली में सोना खरीदने जा रहे हैं तो एक क्लिक में जानें ठगी से बचने के उपाय

Lucknow, Uttar Pradesh, India
दीपावली में सोना खरीदने जा रहे हैं तो एक क्लिक में जानें ठगी से बचने के उपाय

शहर में 5000 सोने के ज्वैलर्स हैं जिसमें केवल 60 रजिस्टर्ड, चांदी के 3000 ज्वैलर्स हैं जिसमें केवल 12 रजिस्टर्ड

Santoshi Das/ Exclusive

लखनऊ.
अलीगंज में रहने वाले कृष्ण कुमार पाण्डेय ने अपनी बेटी की शादी के लिए हाल ही में शहर के अलग अलग दुकानों से लाखों रुपए के गहनें खरीदे। सोने के गहने शुद्ध हों इस लिए उन्होंने जुलरी 22 कैरेट की खरीदी। कुछ गहनों की क्वालिटी में उन्हें शक था तो उन्होंने शहर के भारतीय मानक ब्यूरों द्वारा बनाए गए हालमार्क सेंटर पर गहनों की शुद्धता की जांच कराई। जांच रिपोर्ट आते ही उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। जिन गहनों को ज्वैलर्स ने 22 कैरेट बताकर दिया वह अधिकतर जुलरी 18 केरैट के ही निकले। यह तो एक मामला है लेकिन ऐसे तमाम मामले बीते दिनों  सामने आ चुके हैं जब लोगों को सोने का नाम पर धोखा दे दिया जाता है।


अपने साथ हुए इस ठगी के बाद उन्होंने अब उपभोक्ता फोरम का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर ली है। यह मामला जब सामने आया तो सोने में मिलावट को जानने के लिए पड़ताल की।

 
शहर में सोने की शुद्धता को जांचने की यह है सरकारी एजेंसी

सेंटर का नाम             स्थान                    संचालक

पाटिल हालमार्किंग          चौक                    उमेश पाटिल

गोविंद हालमार्किंग         चौक                     राजकुमार वर्मा

नकोडा हालमार्किंग         चौक                     जाकिर हुसैन

श्री प्रेम हालमार्किंग         अमीनाबाद                प्रेम

 

सोने का वजन बढ़ाने के लिए मिला रहे हैं इरोडियम


सोने में अभी तक वजन बढ़ाने के लिएए चांदी, तांबा, पीतल जैसी धातु मिलाई जाती थी। मगर जांच में इन धातुओं को पकड़ लिया जाता था। मगर अब इसमें इरोडियम नाम के कैमिकल का पाउडर मिलाया जा रहा है। यह एक कैमिकल होता है जो सोने में मिलाते हैं तो सोने की कैमिकल से जांच करते वक्त पता नहीं चलता। इसकी मिलावट हालमार्क सेंटर में लगाए गए खास मशीन में हो सकती है।

 
हालमार्क ने बांटे हैं सोने की शुद्धता की कैटेगरी

23 कैरेट- इसमें 95 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

22 कैरेट- इसमें 91 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

21 कैरेट- इसमें 87 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

20 कैरेट- इसमें 83 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

19 कैरेट- इसमें 79 प्रतिशत  सोना बाकी मिलावट

18 कैरेट- इसमें 75 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

17 कैरेट- इसमें 70 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

16 कैरेट- इसमें 66 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

14 कैरेट- इसमें 58 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

9 कैरेट- इसमें 37 प्रतिशत सोना बाकी मिलावट

 

सोने में रुथेनियम की मिलावट…बढ़ रहा वजन…चमक रहा सोना

चौक स्थित सराफा व्यापारी विनोद माहेश्वरी ने बताया कि सोने में मिलावट जोरों पर है। सोने के गहने शुद्धता के पैमाने पर खरे नहीं उतर रहे हैं। लोग ठगी का शिकार हो रहे हैं क्योंकि सोने में मिलावट ज्यादा होने लगी है। सोनार सोने को मजबूत बनाने के लिए उसमें कुछ प्रतिशत की मिलावट करता है। अगर सोने में मिलावट नहीं होगी तो सोना टूट जाएगा। सोने में 24 कैरेट सोना विशुद्ध होता है। इसकी खराबी यह होती है कि यह कमजोर होता है इसकी वजह से 24 कैरेट के सोने के आभूषण नहीं बनाए जाते। आभूषण बनाने के लिए 23, 22, 18, 16, 14 और 09 कैरेट के सोने का इस्तेमाल होता है। इसमें सबसे बेहतर 22 और 18 कैरेट का सोना माना गया है।

सोने में मिलाया जा रहा है रुथेनियम

सोने की शुद्धता जांचने वाली चौक स्थित एजेंसी पाटिलतंज पाटिल हैंड हॉलमार्किंग सेंटर के उमेश ने बताया कि सोनार सोने में रुथेनियम नाम का केमिकल मिला रहे हैं। इससे सोने का वजन बढ़ जाता है। गहने खरीदते वक्त ग्राहक सोने का वजन देखकर गहनें तो खरीद लेते हैं बाद में कैमिकल घिस जाता है। इससे वजन अचानक कम हो जाता है। पहले गहनों में अन्य धातुएं मिलाई जाती थीं मगर अब इसका इस्तेमाल बढ़ा दिया गया है।

रुथेनियम की मिलावट पकड़ना मुश्किल

चौक स्थित हॉलमार्किंग सेंटर के डा राजकुमार ने बताया कि रुथेनियम और इरेडियम की मिलावट जब सोने में होती है तो उसे टेस्टिंग में पता नहीं कर पाते हैं। यह दोनों कैमिकल पाउडर के रूप में होते हैं। इसे सोने में मिलाया जाता है। सोना 28 लाख रुपए किलो है और कैमिकल 4 लाख रुपए किलो। जब इन्हें मिलाया जाता है तो सोने की शुद्धता जांचते समय नाइट्रेट जांच में इस कैमिकल की पुष्टि नहीं हो पाती है। उन्होंने बताया कि सोने की शुद्धता जांचने के लिए लखनऊ में कुल चार सेंटर है। एक अमीनाबाद में और तीन चौक में हैं। हमारी एजेंसी से रजिस्टर्ड ज्वैलर्स हॉलमार्क की मुहर लगवाते हैं।

ठगी से बचने का यह है उपाय

डा राजकुमार ने बताया कि सोना हॉलमार्क का निशान देखकर खरीदना चाहिए। इसके अलावा दुकान की रसीद जरूर लें जिससे अगर आपके साथ ठगी हुई तो आप उपभोक्ता फोरम में जा सकें। अगर सोने की शुद्धता को लेकर शक है तो उसे शहर में बने हालमार्किंग सेंटर पर आकर जांच करवा लें। यह जांच केवल 50 रुपए प्रति पीस में हो जाता है।

हालमार्क के पांच निशान जरूर देंखें

तिकोने शेप में बना हॉलमार्क का निशान

सोने का प्रतिशत

बीआईएस कोड

हालमार्किंग सेंटर का नाम

हालमार्क के निशान में जिस जुलरी से आप गहने खरीद रहे हैं उस दुकान का लोगो

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned