लखनऊ महोत्सव में फूड कोर्ट को भीड़ का इंतजार

Lucknow, Uttar Pradesh, India
लखनऊ महोत्सव में फूड कोर्ट को भीड़ का इंतजार

नोटबंदी के असर के बीच लखनऊ महोत्सव में रौनक लौट आई है। महोत्सव के पांचवें दिन लोगों ने कैलाश खेर के परफॉर्मेंस को जमकर एंजॉय किया।

लखनऊ. नोटबंदी के असर के बीच लखनऊ महोत्सव में रौनक लौट आई है। महोत्सव के पांचवे दिन लोगों ने कैलाश खेर के परफॉर्मेंस को जमकर एंजॉय किया। जानकारी भीड़ की वजह सिंगर्स के परफॉर्मेंस को मान रहे हैं लेकिन दूसरी तरफ फूड स्टॉल्स पर भीड़ काफी कम है। कई फू़ड स्टॉल पर ई-पेमेंट की व्यवस्था है लेकिन कई अभी भी कैश पेमेंट ले रहे हैं।

सूना पड़ा है फूड कोर्ट


नवाबों के शहर में टुंडे कबाबी के कबाब भी लोगों को फूड स्टॉल की तरफ आकर्षित नहीं कर पा रहे हैं। टुंडे कबाबी स्टॉल पर खड़े शबीर ने बताया कि लखनऊ आने वाले में टुंडे का कबाब चखने का चाव रहता है लेकिन महोत्सव में इस बार खाने के स्टॉल तक बमुश्किल ही पहुंच रही है। जबकी पिछले कुछ साल के मुकाबले इस साल सभी दुकानदरों ने अपने रेट तक कम कर दिए है।

वहीं पुरानी दिल्ली का फेमस ‘जायका पुरानी दिल्ली का’ भी लोगों के इंतजार में ही बैठा दिखा। स्टॉल पर मौजूद मोहम्मद इमरान ने बताया कि हम खास तौर पर दिल्ली से लखनऊ महोत्सव के लिए आए है लेकिन इस बार बिजनेस बहुत कम हुआ है। हमारा स्वाद पहले जैसा ही है, पर शायद नोटबंदी ने लोगों को रोक रखा है। हालांकि इस स्टॉल पर लोग ‘तवा चिकन’ का मजा लिए बिना नहीं जा रहे है।

lko mahotsav

डॉमिनोज और पिज्जा हट पर भी भीड़ कम

युवाओं में सबसे पसंदीदा डॉमिनॉज और पिज्जा हट भी लखनऊ महोत्सव में लोगों को अपना स्वाद चखाने पहुंचे हुए है। लेकिन फुड कोर्ट में इन दोनों को ही जैसे फूड लवर्स ने साइड लाइन कर दिया है।

फूड कोर्ट में पेटीएम हिट

फिलहाल फुड कोर्ट में जितने भी लोग खाने के लिए पहुंच रहे है उनकी पहली पसंद पेटीएम बन गया है। क्योंकि नकदी की समस्या के चलते लोग सबसे पहले यह देख रहे है कि किस दुकान पर पेटीएम से भुगतान करने की सुविधा मौजूद है। ऐसे में धीरे-धीरे सभी दुकानदारों ने अपने यहां पेटीएम की व्यवस्था कर ली है।

lko mahotsav

भाया बनारसी पान

महोत्सव में बनारसी पान लोगों को खास पसंद आ रहे है। जिसके लिए वो एक पान के लिए 60 रूपये भी देने को तैयार है। बनारसी पान की कीमत 20 रूपये से लेकर 500 रूपये तक है। इसमें तकरीबन 16 तरह के पान लोगों के लिए परोसे जा रहे है। जिसमें गिलोरी पान लोगों की पहली पसंद है।

अब भी खाली पड़ी कई दुकानें

महोत्सव में पहली बार ऐसा हुआ है कि चार दिन बीत जाने के बाद कई दुकाने खाली पड़ी हुई है। नाबार्ड के सौजन्य से ग्रामीण उत्पादों की प्रदर्शनी सह बिक्री के लिए लखनऊ महोत्सव में वकायादा एक अलग एरिया लिया गया है, लेकिन इसमें भी कई दुकाने अब तक नहीं लगी है। वहीं जो लगी भी है उसमें भी बस खानापूर्ति की गई है।

मेट्रो पावेलियन में भीड़

राजधानी में जल्द ही मेट्रो का सपना साकार हो वाला है। ऐसे में सांस्कृतिक पंडाल के ठीक सामने सजे मेट्रो पावेलियन में लोगों की खासा भीड़ जामा हो रही है। लोग लखनऊ मेट्रो के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी पाना चाहाते हैं। पवेलियन में आने वालों का सबसे पहला सवाल यही होता है कि मेट्रो में बैठने का मौका कब मिलेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned