जानें कौन हैं यूपी के नए डीजीपी सुलखान सिंह

Dhirendra Singh

Publish: Apr, 21 2017 10:38:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
जानें कौन हैं यूपी के नए डीजीपी सुलखान सिंह

सीएम योगी आदित्यनाथ डीजीपी पद की कमान किसी ईमानदार आईपीएस के हाथ में ही सौंपना चाहते थे।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को बड़ा फेरबलद करते हुए यूपी डीजीपी के पद की कमान वरिष्ठ आईपीएस सुलखान सिंह को सौंप दी है। योगी सरकार आने के बाद पिछले कई दिनों से यूपी के नए डीजीपी के नाम को लेकर चर्चा चल रही थी। लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ डीजीपी पद की कमान किसी ईमानदार आईपीएस के हाथ में ही सौंपना चाहते थे। इसलिए वरिष्ठ आईपीएस सुलखान सिंह के नाम पर मोहर लगाई गई है।

ईमानदारी का जवाब नहीं

सुलखान सिंह यूपी कैडर 1980 बैच के सबसे वरिष्ठ आईपीएस अफसर हैं। इनकी गिनती यूपी पुलिस में सबसे इमानदार अधिकारियों में की जाती है। कुछ अधिकारियों का मानना है कि इसी इमानदारी और सख्ती के चलते उन्हें ज्यादातर साइड पोस्टिंग दी गई। फिलहाल सुलखान सिंह डीजी ट्रेनिंग के पद पर तैनात थे। जो कि मूल रुप से यूपी बांदा के रहने वाले हैं। इनका जन्म 8 सितंबर 1957 को बांदा में ही हुआ था। यहां उनकी शुरुआती शिक्षा आदर्श बजरंग इंटर कॉलेज में हुई थी।

शिक्षा में भी आगे

नवनिर्वाचित डीजीपी सुलखान सिंह ने आईआईटी रूड़की से सिविल इंजीनियरिंग की है। साथ ही इन्होंने लॉ भी किया है।

चंद दिनों के लिए मिलेगा डीजीपी का पद

डीजीपी के पद पर सुलखान सिंह का कार्यकाल महज पांच महीने का ही होगा। दरअसल सितंबर 2017 में सुलखान सिंह का रिटायरमेंट है।

तैनाती व प्रमोशन

सुलखान सिंह 28 दिसंबर 1980 को बतौर आईपीएस चुने गए। इसके बाद 16 जुलाई 1984 को इनका सीनियर स्केल पर प्रमोशन हुआ। फिर 5 अप्रैल 1997 को डीआईजी के पद पर प्रमोशन मिला। 6 नवंबर 2001 को इन्हें आईजी का पद मिला। इसके बाद 16 जनवरी 2010 को इन्हें एडीजी के पद पर प्रमोशन मिला। फिलहाल 3 मार्च 2014 से डीजी के पद पर तैनात थे।

ये है नए डीजीपी की संपत्ति

यूपी के नवनिर्वाचित डीजीपी के पास न के बराबर संपत्ति हैं। उनके पास लखनऊ में अलकनंदा एपार्टमेंट में  केवल तीन कमरे का एक घर है। यह घर उन्होंने किस्त पर लखनऊ डेवलपमेंट अथारिटी से लिया था। वहीं उनकी पास बांदा में एक जमीन है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned