"NRHM घोटाला हो रहा राख में तबदील", रची जा रही बड़ी साजिश!

Dhirendra Singh

Publish: Jun, 20 2017 04:02:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India

राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान (एनआरएचएम) घोटाले से जुड़े सबूत मिटाए जा रहे हैं। राख हो गई फाइलों की वज़ह से बढ़ सकती है सीबीआई की परेशानी।

लखनऊ. बसपा सरकार में हुए बहुचर्चित अरबों रुपये का राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान (एनआरएचएम) घोटाला एक बार फिर चर्चा का विषय बनता जा रहा है। एनआरएचएम घोटाले में फंसे लोगों को बचाने के लिए फिर से अलग-अलग तरह के प्रयासों की आशंकाओं को जोर मिलने लग गया है। इस बार किसी की हत्या या धमकी नहीं "आग" घोटाले से नाम हटाने का नया तरीका बनता जा रहा है। इस घोटाले की जांच कर रही सीबीआई के रडार पर कई बड़े व्यापारी और नेता भी शामिल है। दरअसल बीते बुधवार को हजरतगंज में मीरा बाई मार्ग स्थित सेल्स टैक्स के दफ्तर में आग लगने के बाद एनआरएचएम घोटाला एक बार फिर चर्चा में आ गया। क्योंकि जानकारी के मुताबिक इस आग में एनआरएचएम घोटाले से जुड़ी कई हजार करोड़ की फाइलें जलने बात सामने आई है।
आग में खत्म हो गए सारे सबूत
सेल्स टैक्स के दफ्तर में लगी आग का मामला एनआरएचएम घोटाले से जुड़ता नज़र आ रहा है। दफ्तर के पांचवें फ्लोर पर बीती 14 जून की सुबह आग लगी थी। इस आग में खंड-14, 15 व 16 में हजारों फाइलें जल गईं थी। जानकारी के मुताबिक यहां जली फाइलों में एनआरएचएम घोटाले की मूल फाइलें भी शामिल थी। इन फाइलों में स्वास्थ्य विभाग में करीब 6 हजार करोड़ रुपये की दवाओं और उपकरणों की खरीद के रेट और इन्हें सप्लाई करने वाले व्यापारियों का पूरा विवरण मौजूद था। ऐसे में सीबीआई की जांच में इन व्यापारियों और उनसे जुड़े नेताओं का फंसना तय माना जा रहा था। इस महाघोटाले में फिलहाल सीबीआई यह पता लगा रही थी कि व्यापारियों से एनआरएचएम के लिए दवाएं व उपकरण किस रेट पर खरीदे गए थे और इन सौदों का टैक्स जमा किया गया था या नहीं। इसी के चलते सीबीआई सेल्स टैक्स विभाग तर पहुंच गई थी। लेकिन ऐसे मौके पर फाइलों का आग में जल जाना कई सवाल खड़े कर रहा है।
वहीं टैक्स बचाने के लिए फर्जी तौर पर बनाई गई सेनेट्री फर्मों से जुड़े कई राज भी इस आग में दफन हो गए। दरअसल पूर्व में सीतापुर के आस-पास फर्जी नाम व पते पर सेनेट्री फर्में दिखाकर भी करोड़ों की टैक्स चोरी हुई थी। इस संबंध में विशेष अनुसंधान शाखा जांच कर रही है। इस मामले में भी कार्रवाई शुरु हुई थी, लेकिन आग में इससे जुड़ी फाइलें भी खंड-16 में जलकर राख हो गई। हांलाकि एडिशनल कमिश्नर, सेल्स टैक्स (प्रशासन) अनिल कुमार सिंह का कहना है कि उन्हें एनआरएचएम से जुड़ी फाइलों के संबंध में जानकारी नहीं है, आग लगने के कारणों की जांच जारी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned