अखिलेश खेमे में सता रही चिंता, शिवपाल बिगाड़ सकते हैं 'खेल' !

Prashant Srivastava

Publish: Feb, 17 2017 04:34:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
अखिलेश खेमे में सता रही चिंता, शिवपाल बिगाड़ सकते हैं 'खेल' !

सपा में साइडलाइन चल रहे पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को लेकर असमंजस बरकरार है।

लखनऊ. सपा में साइडलाइन चल रहे पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को लेकर असमंजस बरकरार है। सूत्रों के मुताबिक खबर आ रही है कि शिवपाल के कुछ सहयोगी जनता को मायावती के पक्ष में वोट डालने की अपील कर रहे हैं। ऐसे में अखिलेश समर्थक भी एक्टिव हो गए हैं और शिवपाल के करीबियों से दूरी बना ली है लेकिन कहीं न कहीं यह डर जरूर है कि कहीं शिवपाल खेल न बिगाड़ दें।

सीएम ने नहीं किया प्रचार

सीएम अखिलेश यादव अपने परिवार के सभी सदस्यों के लिए चुनाव प्रचार करने जा रहे हैं। वह छोटे भाई प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा के लिए भी प्रचार करने गए, चचेरे भाई अनुराग यादव के लिए भी जनसभा को संबोधित किया लेकिन चाचा शिवपाल के लिए अभी तक कोई रैली नहीं की। बीते दिनों उन्होंने यह भी कहा था कि जो साइकल छीनने वाले थे, कम से कम उनकी साइकल छिन गई। जिन पर हमने भरोसा किया, उन्होंने ही मुझे और नेताजी को लड़ा दिया।' अखिलेश ने इटावा के लोगों से उन लोगों को सबक सिखाने की अपील की जिन्होंने मुलायम और उनके बीच खाई पैदा की।

मुलायम ने किया था प्रचार

वहीं सपा के पूर्व सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने प्रचार किया था।उन्होंने अपने भाई के पक्ष में लोगों को वोट करने की अपील की। साथ ही कहा कि ये चुनाव मेरे और शिवपाल के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। खास बात ये रही अपने संबोधन में मुलायम ने सीएम अखिलेश का नाम लिए बगैर समाजवादी पार्टी को जिताने की अपील की।

शिवपाल ने कही थी नई पार्टी बनाने की बात

बीते दिनों एक जनसभा के दौरान शिवपाल ने नई पार्टी बनाने की बात कही थी। इसके जवाब में सीएम अखिलेश यादव ने कहा था कि यह उनकी मर्जी है कि वह रुके या जाएं। सूत्रों की मानें तो साइड लाइन होने के बाद शिवपाल काफी आहत हैं। वह अपने क्षेत्र के अलावा कहीं और प्रचार करते भी नहीं दिखे। शिवपाल चुनाव में पार्टी के प्रचार में भी हिस्सा नहीं ले रहे हैं. लेकिन, उन्होंने कहा कि यदि उन्हें पार्टी की जीत के बाद अखिलेश यादव मंत्री बनने के लिए कहेंगे तो वह इससे इंकार नहीं करेंगे।

माया ने दिए थे संकेत

बीएसपी चीफ मायावती ने कहा था कि अगर शिवपाल यादव एसपी छोड़कर उनकी पार्टी में आना चाहेंगे तो वह इस पर विचार करेंगी। बीते दिनों बीजेपी व एसपी से कई नेता पार्टी छोड़कर बीएसपी में आए थे। ऐसे में शिवपाल को लेकर भी कयासों का बाजार गर्म है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned