मुस्लिम भाई बना रहे श्रीजगन्नाथ यात्रा के लिए रथ, एक साथ मनेगी ईद और जगन्नाथ पर्व

Lucknow, Uttar Pradesh, India
मुस्लिम भाई बना रहे श्रीजगन्नाथ यात्रा के लिए रथ, एक साथ मनेगी ईद और जगन्नाथ पर्व

रथ यात्रा की तैयारी में मुस्लिम भाई श्री जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए रथ बनाने से लेकर अन्य सेवाओं में अपना सहयोग दे रहे हैं

संतोषी दास/ पत्रिका विशेष

लखनऊ.
देश में भले ही भारत के झंडे और राष्ट्रगान को लेकर राजनेता हिन्दू-मुस्लिम को लड़ा रहे हों लेकिन लखनऊ में मज़हब के नाम पर एकता की मिसाल दिख रही है। अदब के शहर में गंगा-जमुनी तहज़ीब की मिसाल बनकर जमशेद, सलमान, शादाब, सुहैल श्री जगन्नाथ रथ यात्रा की तैयारी में दिन रात लगे हुए हैं। इन चारों मुस्लिम युवओं ने रोज़े रखे हैं और दिन भर वह डालीगंज स्थित श्री माधव मंदिर में रथ यात्रा की तैयारी कर रहे हैं।

 
इस बार छह जुलाई को ईद है और उसी दिन श्री जगन्नाथ रथ यात्रा भी निकलेगी। रथ यात्रा की तैयारी में मुस्लिम भाई श्री जगन्नाथ रथ यात्रा के लिए रथ बनाने से लेकर अन्य सेवाओं में अपना सहयोग दे रहे हैं। हिन्दू धर्मगुरुओं के अनुसार 6 जुलाई को रथ यात्रा निकलनी है और मुस्लिम धर्मगुरुओं के अनुसार 6 जुलाई को ईद मनाई जा सकती है।


श्री  जगन्नाथरथ यात्रा में मुस्लिमों का अहम योगदान

डालीगंज स्थित श्री माधव मन्दिर से निकलने वाली श्री जगन्नाथ रथ यात्रा में मुस्लिम भाईयो का विशेष योगदान रहता है। रथ यात्रा में रथ सज्जा  से लेकर, भक्तो को पानी पिलाना, डांस  ग्रुप, प्रसाद वितरण करना अनेक सेवाओ में क्षेत्र के मुस्लिम युवा बढ़- चढ़ कर चढ़ कर हिस्सा लेते हैं।


ये सजाते हैं मंदिर



सलमान अहमद


श्री माधव मन्दिर को इलेक्ट्रानिक झालरो से सजाना व रथ यात्रा के दौरान अपने भाईयो के साथ सम्मिलित व सेवा कार्यो में सहयोग देता हूॅ

ये पिलाते हैं रथयात्रा में भक्तों को पानी



शादाब अहमद


हम लोग पिछले साल की तरह इस बार भी नमाज पढने के बाद अपने साथियो के साथ रथ यात्रा में शामिल होंगे और भक्तों को पानी पिलाने की सेवा करेंगे।

ये अपनी फैमिली के साथ रथ खींचने आते हैं यात्रा में



जमशेद अंसारी


मेरा तो कमेटी के सदस्यो के साथ परिवार वाला रिस्ता है। मैं कमेटी की बैठको मे शामिल होता हूँ तथा अपने पूरे परिवार के साथ रथ यात्रा में आता हूं।

इनका डांस ग्रुप मंदिर में करता है नृत्य

salman

सुहेल खान (कोरियोग्र्राफर)


मै अपने पूरे ग्रुप में 15 सदस्यो के साथ रथ यात्रा में डांस करते हुए चलुगा तथा पाचं प्रमुख स्थानो पर प्राफोमर्स अपने ग्रुप के साथ दूगा।

जगन्नाथ रथयात्रा का इतिहास
जगन्नाथ रथयात्रा भारत में मनाए जाने वाले धार्मिक महोत्सवों में सबसे प्रमुख है। उड़ीसा के पुरी में निकलने वाली रथ यात्रा दुनिया भर में प्रसिद्ध है। यहां भारत ही नहीं बल्कि विदेशी भी आते हैं। भगवान श्रीकृष्ण के अवतार जगन्नाथ की रथयात्रा का पुण्य सौ यज्ञों के बराबर माना जाता है। सागर तट पर बसे पुरी शहर में होने वाली जगन्नाथ रथयात्रा उस्तस्व के समय आस्था का विराट वैभव देखने को मिलता है। उसी तरह लखनऊ के श्री माधव मंदिर में भी रथ यात्रा का भव्य नजारा देखने को मिलता है।

दस दिनों का होता है रथयात्रा पर्व

जगन्नाथ रथयात्रा दस दिनों का फेस्टिवल है। इसकी तैयरी अक्षय तृतीय से शुरू हो जाती है। इसी दिन से श्रीकृष्ण, बलराम और सुभद्रा के रथों का निर्माण शुरू हो जाता है। भगवान जगन्नाथ 800 वर्ष प्राचीन पुरी के मंदिर में विराजते हैं। पुरी मंदिर चार धामों में से एक है।

यह भी पढ़िए -माता की भक्ति और घंटे का रहस्य! आखिर क्या है घंटा चढाने और बजाने का राज?

यह भी पढ़िए-एक झाड़ू बदल सकती है आप की किस्मत! पढ़िए कैसे?

यह भी पढ़िए-तो यह है कैराना पलायन प्रकरण का राज़? पढ़िए इतिहास

1
Ad Block is Banned