बेरोजागरों पर मेहरबान हुई मोदी सरकार लेकिन पद और सैलरी पर उठे कई सवाल

Lucknow, Uttar Pradesh, India
बेरोजागरों पर मेहरबान हुई मोदी सरकार लेकिन पद और सैलरी पर उठे कई सवाल

भारत सरकार के कौशल विकास मंत्रालय और नेशनल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने साथ मिलकर सोशल एक्शन फॉर वेलफेयर एंड कल्चरल एडवांसमेंट (स्वाका) के तत्वाधान में राजधानी के कॉल्विन तालुकदार्स कॉलेज परिसर में रोज़गार मेले की शुरुआत की गई है।

लखनऊ.  भारत सरकार के कौशल विकास मंत्रालय और नेशनल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने साथ मिलकर सोशल एक्शन फॉर वेलफेयर एंड कल्चरल एडवांसमेंट (स्वाका) के तत्वाधान में राजधानी के कॉल्विन तालुकेदार कॉलेज परिसर में रोज़गार मेले की शुरुआत की गई है। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में केंद्र सरकार में कौशल विकास और उद्यमशीलता के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रुडी ने मेले का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी का सपना है कि सभी युवाओं को रोजगार मिले, वही पूरा करने आया हूं। मेले में तीन हजार लोगों को नियुक्ति पत्र दिए गए। इस दौरान कई छात्र परेशान भी नजर आए। उन्हें न तो सही नियुक्ति पत्र मिला और न ही सैलरी के बारे में पता चला।

18 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

इस फेयर के माध्‍यम से अभी तक 18,000 लोगों का रजिस्ट्रेशन हुआ है।फेयर के पहले दिन 3,000 बेरोजगारों को ऑफर लेटर मिला है।इसमें 10वीं पास से लेकर उच्‍च शिक्षा प्रााप्‍त बेरोजगार आवेदन कर सकेंगे। इसमे एलएंडटी, विप्रो, आईएसडीई, डालमिया फाउंडेशन सहित 150 से ज्यादा कंपिनयों ने शिरकत की है।8 दिव्यांगों को भी मिला रोजगार।इस मौके पर डॉ. महेंद्र सिंह ने कहा कि ये तो अभी शुरुआत है, पूरे यूपी में लगेंगे एेसे मेले।

rojgar
 
दिया मन मुताबिक ऑफर लेटर 

 सीतापुर के सिधौली से आए दिव्‍यांग विनोद कुमार ने बताया कि वह दो दिन पहले ही राजधानी में राेजगार पाने की आस लिए अाया था।  पहले जब यहां आकर जॉब के बारे में जानकारी की तो पाया कि दिव्‍यांगों के लिए कोई नौकरी नहीं है।  विनोद यह सुनकर मायूस हुआ और वापस लौटने लगा।  तभी एक जागरूक व्‍यक्ति की सलाह पर उसने आयोजकों से संपर्क किया। इसके बाद उसका रजिस्‍ट्रेशन समेत इंटरव्यू लिया गया। अंत मे बाराबंकी की एम एस इंटरप्राइजेज कंपनी में उसे प्लंबर के‍ काम के लिए चयनित कर लिया गया। जाब पाकर विनोद काफी खुश था, लेकिन जब उसके हाथ में उसका जाब लेटर आया तो उसके पद की जगह प्लंबर की जगह राजमिस्‍त्री लिखा हुआ था। इसकी शिकायत करने पर अधिकारियों ने कहा कि तुम तो दिव्‍यांग को जो लेटर दे रहे हैं वहीं नौकरी करनी पड़ेगी, वरना घर जा सकते हो। विनोद ने समझाया कि उसने प्लंबर की ट्रेनिंग की है आैर उसेे राजमिस्‍त्री का काम नहीं आता।

rojgar

 नहीं बता पाए सैलरी कितनी मिलेगी 

जॉब फेयर में वैसे तो कई युवाओं को नौकरी मिली लेकिन  जब जॉब पाए तारिक खान, कनक कुमारी, वर्षा शर्मा समेत तमाम कैंडीडेट से उनका पैकेज पूछा गया तो वह नहीं बता पाए।  उनका कहना था कि कंपनी वालों ने इसे बाद में डिक्‍लेयर करने को कहा है। ऐसे में बच्‍चों के साथ आए माता पिता ने बताया कि कंपनी के अधिकारी काफी अभद्र व्‍यवहार भी किया। 

rojgar

मंत्री से आफॅर लेटर मिलना था पर करते रह गए इंतजार 

कनक कुमारी और तारिक खान ने बताया कि उन्‍हें फूड प्रोसेसिंग की ट्रेनिंग के बाद एक बेकिंग फर्म में यहां आकर जॉब मिली है। आयोजकों ने बताया कि आपको मंत्री राजीव प्रताप रूडी मंच पर बुलाकर ऑफर लेटर देंगे। इसके लिए हमसे ऑफर लेटर मार्केट से लेमिनेट करवाने को कहा गया। हमने आनन फानन में किसी तरह लेटर लेमिनेट करवा लिया और जमा कर दिया  पर जब मंत्री के हाथों लेटर नहीं मिला तो काफी खराब लगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned