सीएम योगी आदित्यनाथ देंगे इस्तीफा

Lucknow, Uttar Pradesh, India
सीएम योगी आदित्यनाथ देंगे इस्तीफा

गोरखपुर देहात से लड़ सकते हैं विधायक का चुनाव। 

लखनऊ. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से बीजेपी के सांसद हैं। उन्होंने अभी सांसद पद से इस्तीफा नहीं दिया है। योगी ने १७ जुलाई सोमवार को राष्ट्रपति चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। अब कयास लगाया जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ जल्द की सांसद पद से अपना इस्तीफा दे देंगे। बता दें कि योगी आदित्यनाथ अब यूपी के सीएम हैं और उन्हें छह महीने के अंदर यूपी विधानसभा या विधान परिषद में से किसी एक सदन का सदस्य चुना जाना जरूरी है नहीं तो छह महीने बाद उन्हें सीएम के पद से इस्तीफा देना पड़ सकता है। 

इसलिए नहीं दिए थे इस्तीफा 
सूत्रों की मानें तो सीएम योगी आदित्यनाथ यूपी के सीएम बनने के बाद भी अब तक सांसद पद से इस्तीफा नहीं दिए हैं। माना जा रहा है कि राष्ट्रपति चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करने के बाद सीएम योगी लोकसभा की सदस्यता से जल्द ही इस्तीफा दे देेंगे। उसके बाद वे विधानसभा के लिए विधायक या विधानपरिषद के एमएलसी का चुनाव लड़ेंगे। अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि सीएम योगी विधानसभा का चुनाव कहां से लड़ेंगे।  

ऐसे में यह कयास लगाया जाने लगा है कि आखिर में योगी आदित्यनाथ की जगह अब कौन उनकी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेगा। वैसे तो कई दावेदार हैं, लेकिन पार्टी किसी को नाराज नहीं करना चाहती है। माना जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे से खाली होने वाली गोरखपुर सीट से मोदी योगी के पसंद के किसी नेता को लोकसभा का चुनाव लड़ा सकते हैं। यहां से कौन चुनाव लड़ेगा अभी यह कहना मुश्किल है। सूत्रों की मानें तो गोरखपुर सदर से बीजेपी विधायक डाक्टर राधा मोहनदास अग्रवाल योगी की जगह चुनाव लड़ सकते हैं, वहीं पनियरा से बीजेपी विधायक फतेबहादुर सिंह के नाम की भी चर्चा है। 

गोरखपुर सदर योगी की अजेय सीट है
गोरखपुर संसदीय सीट योगी आदित्यनाथ की अजेय सीट है। इस सीट पर मंदिर का कई दशक से कब्जा रहा है। लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ को इस सीट को छोडऩा पड़ेगा। योगी यहां से लगातार पांच बार से सांसद चुने जा रहे हैं। अब योगी सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे। 

अभी नहीं हैं यूपी में किसी भी सदन के सदस्य योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री हैं। सीएम बनने के बाद अब उन्हें छह महीने के अंदर विधान परिषद या विधानसभा दोनों में से किसी एक सदन का सदस्य बनना होगा। नहीं तो छह महीने बाद उनकी मुख्यमंत्री की कुर्सी छिन जाएगी। माना जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ गोरखपुर देहात सीट से विधायकी का चुनाव लड़ सकते हैं। अभी यहां से योगी के करीबी विपिन सिंह बीजेपी के टिकट से विधायक हैं। विपिन सिंह ने भी योगी के लिए अपनी सीट छोडऩे की पेशकश की है। ऐसे में यह तय माना जा रहा है कि योगी अब गोरखपुर देहात की सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ सकते हैं। वहीं योगी के कुछ और करीब गोरखपुर सदर विधायक डाक्टर राधा मोहनदास अग्रवाल और पनियरा से बीजेपी विधायक फतेहबहादुर सिंह योगी के लिए अपनी-अपनी सीट छोडऩे को तैयार हैं। अब योगी कहां से चुनाव लड़ेंग यह तो योगी ही जानें। लेकिन इतना तो तय है कि योगी को लोकसभा सीट छोडऩी पड़ेगी और छह महीने के अंदर विधानपरिषद या विधानसभा दोनों में से किसी एक सदन का सदस्य बनना होगा। नहीं तो उनका मुख्यमंत्री पद छिन सकता है।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned