बगैर चिकित्सकों के चल रहा पशु चिकित्सालय, फाइलों में ही हो रहा काम

Indresh Gupta

Publish: Dec, 01 2016 01:37:00 (IST)

Madhubani, Bihar, India
बगैर चिकित्सकों के चल रहा पशु चिकित्सालय, फाइलों में ही हो रहा काम

42 में से 32 चिकित्सालय में ही चिकित्सक हैं। शेष 10 चिकित्सालय चिकित्सक के बगैर चल रहा है।

मधुबनी। जिला मुख्यालय स्थित जिला पशु चिकित्सालय का हाल इन दिनों कुछ ऐसा है जो सरकारी हकीकत की पोल खोल के रख देता है। चिकित्सालय के एक हिस्से में प्रभारी जिला पशु पालक पदाधिकारी डा. शशिकांत प्रसाद अपने कक्ष में फाइलों का निष्पादन करने में व्यस्त हैं।

इनके कक्ष से सटे पशु चिकित्सालय में इलाज के लिए कोई पशु नहीं देखा जाता। कार्यालय का पुराना खपड़ैल भवन बंद पड़ा है। कार्यालय के एक हिस्से में विभागीय एक वाहन पड़ा है। जबकि पशु अंबुलेट्री वैन भी निकट ही खड़ा है। पूछे जाने पर प्रभारी जिला पशु पालक पदाधिकारी श्री प्रसाद कहते हैं कि यहां प्रतिदिन करीब आठ पशु इलाज को लाए जाते हैं।

हालांकि इस समय इलाज के लिए कोई पशु नहीं देखा गया। जिले में 10 पशु चिकित्सालय चिकित्सक विहिन: पशुधन सहायक, सहायक व चतुर्थवर्गीय कर्मी की कमी ङोल रहे जिला पशु चिकित्सालय का कार्य प्रभावित होता दिख रहा है। यहां चलंत पशु चिकित्सा पदाधिकारी डा. मनोज कुमार के अलावा एक डाटा ऑपरेटर, एक कार्यालय लिपिक, एक लिपिक, तीन चतुर्थ वर्गीय कर्मी तैनात हैं।

जिले के 42 पशु चिकित्सालय में से 14 चिकित्सालय भवन जीर्ण-शीर्ण स्थिति में है। सभी चिकित्सालय के लिए एक-एक पशु चिकित्सक का पदस्थापित है। लेकिन 42 में से 32 चिकित्सालय में ही चिकित्सक हैं। शेष 10 चिकित्सालय चिकित्सक के बगैर चल रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned