कलेक्टर को सेल्फी नहीं भेजने वाले 14 अफसर बने दोषी, दिया नोटिस

Mahasamund, Chhattisgarh, India
कलेक्टर को सेल्फी नहीं भेजने वाले 14 अफसर बने दोषी, दिया नोटिस

सेल्फी नहीं भेजने वालों को अनुपस्थित कर दिया जाएगा। 14 अफसरों के आवास में रहने की सेल्फी नहीं पहुंची तो उन्हें अनुपस्थित दिखा दिया गया

महासमुुंद. कलेक्टर को सेल्फी नहीं भेजने वाले 14 अफसरों को जिला प्रशासन ने मुख्यालय आवास में नहीं रहने का दोषी मानते हुए नोटिस भेजा है। जिन अफसरों को नोटिस जारी किया गया है, उनमें इस बात की नाराजगी है कि रविवार के दिन सेल्फी भेजने के लिए कहा गया। 12 फरवरी दोपहर 2 बजे अचानक कलक्ट्रेट से अफसरों के मोबाइल पर मैसेज पहुंचा कि अपने-अपने आवासों की सेल्फी के साथ कलक्टर को वाट्सअप करें। सेल्फी नहीं भेजने वालों को अनुपस्थित कर दिया जाएगा। 14 अफसरों के आवास में रहने की सेल्फी नहीं पहुंची तो उन्हें अनुपस्थित दिखा दिया गया।

अफसरों का कहना है कि उनके पास एंड्रायड मोबाइल नहीं होने के कारण सेल्फी नहीं भेज पाए। बागबाहरा सीईओ दीपक ठाकुर भी कलक्टर की फटकार के बाद दो माह की छुट्टी पर चले गए हैं। गौरतलब है कि मुख्यालय में पदस्थ अनेक अधिकारी-कर्मचारी यहां आवास उपलब्ध कराए जाने के बाद भी नहीं रहते। अधिकतर अफसरों का निवास रायपुर में है और यही से आना-जाना करते हैं। इससे प्रशासनिक कार्यों में पड़ रहे व्यवधान संबंधी शिकायतों को लेकर जिला प्रशासन ने निर्देश जारी किया था कि सभी अफसर अपने मुख्यालय में रहें। जिनको नोटिस भेजा गया है उनमें जिला पंचायत, समाज कल्याण, उद्यानिकी, जल संसाधन विभाग, आईएस, मुख्यमंत्री सड़क, लोक निर्माण, कृषि विभााग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, वन आदि विभाग के अधिकारी शामिल हैं।

अवकाश के दिन विवाद तो रात में स्थानांतरण
कुछ माह पहले डिप्टी कलक्टर जगन्नाथ वर्मा को छुट्टी के दिन दफ्तर का काम निपटाने कलक्टर का मैसेज मिला था, जिस पर वे भड़क गए थे। बताया जाता है कि दफ्तर में ही बहस हो गई थी। इसके बाद रात में ही वर्मा का स्थानांतरण हो गया।

बिना बताए मुख्यालय से गायब रहने वालों को नोटिस भेजा गया है। भले ही अवकाश का दिन हो, जो अधिकारी मुख्यालय में नहीं थे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।
उमेश कुमार अग्रवाल, कलक्टर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned