छेड़खानी करने वालों के खिलाफ नहीं दर्ज हुआ मुकदमा, पूरे परिवार ने दी आत्मदाह की धमकी

Mirzapur, Uttar Pradesh, India
 छेड़खानी करने वालों के खिलाफ नहीं दर्ज हुआ मुकदमा, पूरे परिवार ने दी आत्मदाह की धमकी

मुकदमा दर्ज कराने को लेकर पिछले 19 दिनों से महिला थाने से लेकर अधिकारियों के यहां चक्कर लगा रही है महिला

मिर्जापुर. योगी सरकार के एंटी रोमियो स्क्वायड और महिला सुरक्षा के दावे की यूपी में हवा निकल चुकी है। आये दिन महिला अपराध के मामले सामने आते रहते हैं। तााजा मामला मिर्जापुर के जिगना थाने का है, जहां एक नाबालिग लड़की के साथ छेड़खानी की गई। वहीं छेड़खानी की घटना के बाद पीड़िता की मां मुकदमा दर्ज कराने को लेकर पिछले 19 दिनों से महिला थाने से लेकर अधिकारियों के यहां चक्कर लगा रही है। अब पीड़ित परिवार ने इंसाफ की आस छोड़ आत्मदाह की चेतावनी दी है। 

मामला जिगना थाना क्षेत्र का है, जहां एक जून को महिला की 12 वर्षीय बेटी के साथ पड़ोस के रहने वाले संतोष, पवन ,राकेश ने मिल कर मारपीट की और छेड़खानी की घटना को अंजाम दिया। लड़की के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया गया और उसके कपड़े फाड़ दिया । लड़की के शोर मचाने पर मौके पर पहुंची लड़की की दादी ने दबंगों से लड़की को बचा कर घर लेकर आयी।

यह भी पढ़ें:
मृतक आश्रित सैकड़ों परिवारों को योगी सरकार का बड़ा झटका, कहा नहीं देगें नौकरी


पीड़िता की मां अपनी बेटी को लेकर जिगना थाने में शिकायत लेकर पहुंची, मगर थानेदार उसकी बातों को सुनने के बजाय उसे वहां से भगा दिया। महिला अपनी बेटी के साथ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंची, जहां भी उसके मामले में सुनवाई नही हुई। पीड़िता की मां के अनुसार पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी को उसने मदद की गुहार लगाते हुए कई बार पत्र दिया, मगर आज तक बेटी के साथ हुए छेड़खानी का मुकदमा दर्ज नही हुआ।




थानों और अधिकारियों के यहां चक्कर लगाते -लगाते परेशान महिला ने सोमवार को पुलिस अधीक्षक को पत्र देकर पीड़ित बेटी को तीन दिन के अंदर  न्याय दिलाने की गुहार एक बार फिर लगाई है। छेड़खानी का मुकदमा नही दर्ज किए जाने पर उसने अपनी बेटी और परिजनों के साथ आत्मदाह करने की चेतावनी दी है। वहीं थानाध्यक्ष यूपी सिंह यादव का कहना है कि आपसी विवाद का मामला है और इससे पहले भी दोनों पक्षों में लड़ाई हो चुकी है, जिसमे दोनों पक्षों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned