10वीं के छात्र ने बनाया ड्रोन, गुजरात सरकार से 5 करोड़ की डील

Miscellenous India
10वीं के छात्र ने बनाया ड्रोन, गुजरात सरकार से 5 करोड़ की डील

10वीं का छात्र हर्षवर्धन जाला ने बारूदी सुरंग का पता लगाने के लिए एक ड्रोन का डिजाइन किया है, जिसके प्रॉडक्शन के लिए उन्होंने सरकार के साथ 5 करोड़ रुपये के समझौता पर हस्ताक्षर किया।

अहमदाबाद। वाइब्रेंट गुजरात समिट में 14 साल का एक किशोर इतिहास रच दिया। 10वीं का छात्र हर्षवर्धन जाला ने बारूदी सुरंग का पता लगाने के लिए एक ड्रोन का डिजाइन किया है, जिसके प्रॉडक्शन के लिए उन्होंने सरकार के साथ 5 करोड़ रुपये के समझौता पर हस्ताक्षर किया। इतनी कम उम्र में इतनी बड़ी उपलब्धि को प्राप्त करना सच में एक इतिहास रचने जैसा है, जिसकी वजह से आज यह छात्र चर्चा में है।

न्यूज से हुआ इंसपायर
हर्षवर्धन के अनुसार, जब उसने अखबारों में पढ़ा कि कैसे बारूदी सुरंग से सेना के जवान बड़ी तदाद में घायल हो जाते है और उनकी मौत हो जाती है। इसके बाद लैंडमाइन का पता लगाने वाले ड्रोन के नमूने पर उसने 2016 से काम करना शुरू कर दिया और इसके लिए बिजनेस प्लान भी बनाया था। हर्षवर्धन ने अब तक ड्रोन के नमूने पर करीब 5 लाख रुपये खर्च किया है। पहले दो ड्रोन के लिए उसने करीब 2 लाख रुपये खर्च किया जबकि तीसरे नमूने के लिए राज्य सरकार की ओर से 3 लाख रुपये का अनुदान स्वीकृत किया गया है।

पहले रोबोट, फिर बनाया ड्रोन
हर्षवर्धन ने बताया कि पहले उसने ड्रोन का पता लगाने के लिए रोबोट को बनाया था, लेकिन भार के कारण बारूदी सुरंग के ब्लास्ट होने और दुर्घटना की संभावना ज्यादा थी। फिर उसने ड्रोन बनाया जो निश्चित दूरी पर रहकर पर आसानी से बारूदी सुरंग का पता लगा सकता था।

गुजरात सरकार के साथ करार
गुजरात कौंसिल के साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रमुख डॉ. नरोत्तम साहू ने कहा, 'इस प्रोजेक्ट पर कार्य करने के लिए उसके साथ करार किया गया है, आने वाले समय में गुजरात सरकार इस प्रोजेक्ट पर काम करेगी।' 

पिता करते हैं गैजेट बनाने का काम
हर्षवर्धन के पिता एक अकाउंटेट हैं और उनके पास खुद की एयरोबेटिक्स कंपनी है जो गैजेट बनाने का काम करती है। सर्वोदय विद्यामंदिर के इस छात्र का कहना है कि उसे बचपन से ही साइंस और इनोवेशन में रूची है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned