एएफसी कप के फाइनल में पहुंचा बेंगलूरु एफसी क्लब

dheeraj sharma

Publish: Oct, 20 2016 12:16:00 (IST)

Miscellenous India
एएफसी कप के फाइनल में पहुंचा बेंगलूरु एफसी क्लब

बेंगलुरु एफ सी ने एशियन फुटबॉल कंफेडरेशन (एएफ सी) कप के फ ाइनल में पहुंचकर भारत के पहले फु टबॉल क्लब का दर्जा किया हासिल, ईस्ट बंगाल और डेम्पो ने इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। 

बेंगलूरु. भारतीय फुटबॉल कप्तान सुनील छेत्री के बेहतरीन दो गोल और मैच विनिंग परफॉर्मेंस की बदौलत बेंगलुरु एफ सी ने बुधवार को एएफ सी कप के सेमीफ ाइनल में मलेशिया के जोहोर दारुल ताजीम क्लब को 2-1 से हराकर इतिहास रच दिया। एशियाई फुटबॉल की सेकंड टियर प्रतियोगिता में बेंगलुरु एफ सी ने गत विजेता जोहोर दारुल ताजीम को 3-1 से हराया।

बन गया भारत का पहला क्लब
इस जीत के साथ ही बेंगलुरु एफ सी क्लब एएफसी कप के फ ाइनल में पहुंचने वाला भारत का पहला क्लब बन गया है। इससे पहले ईस्ट बंगाल और डेम्पो ने इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। भारतीय क्लब बेंगलुरु एफसी का फ ाइनल में मुकाबला इराक के अल कुवा अल जाविया क्लब से 5 नवंबर को होगा। आपको बता दें कि इराकी क्लब ने मंगलवार को सेमीफ ाइनल मैच में लेबनान के अल अहद क्लब को 3-2 से हराकर फ ाइनल में प्रवेश किया था।

एएफसी कप का सबसे बड़ा मैच
बेंगलुरु के कंटीरवा स्टेडियम में खेले गए इस अहम मैच में मेजबान टीम की तरफ  से सुनील छेत्री ने दो और जुआन एनटोनियो गोंजालेज फर्नांडेज ने एक गोल किया। जोहोर दारुल की तरफ से एकमात्र गोल एस रहीम ने दागा।
एएफसी कप का यह सबसे बड़ा मैच माना जा रहा थाए और दोनों टीमों ने उम्दा प्रदर्शन करके इसे सही साबित भी किया। बेंगलुरु और जोहोर ने काफी दमदार खेल दिखाया। दोनों ही टीमों के खिलाडिय़ों ने मैन टू मैन मार्किंग का खेल दिखाया, जिसकी वजह से दोनों टीमों के स्ट्राइकर्स को खुलकर खेलने का मौका नहीं मिला।

...और स्टेडियम में पसरा सन्नाटा
मुकाबले का सबसे पहला गोल जोहोर दारुल ताजीम के मोहम्मद शफ ीक बिन रहीम ने किया और मैच का नक्शा पलटकर रख दिया। मैच के 11वें मिनट में सफ ी ने हवा में किक मारा, जिसे बेंगलुरु के गोलकीपर अमरिंदर सिंह पकडऩे में नाकाम रहे। वहां मौजूद शफ ीक ने शानदार हेडर जमाकर गेंद जाली के अंदर भेज दी। इससे पहले दोनों टीमें रक्षात्मक फु टबॉल खेल रही थी। दारुल की 1-0 की बढ़त हासिल करने पर स्टेडियम में सन्नाटा पसर गया था।

बेंगलूरु की आक्रामक वापसी
0.1 से पिछडऩे के बाद बेंगलुरु ने अपने आक्रमण में इजाफ ा किया। सुनील छेत्री को हालांकि गोल करके दो कठिन मौके भी मिलेए लेकिन वह चूक गए। इस दौरान छेत्री की कई शानदार किक भी देखने को मिली जो गोल पोस्ट के ऊपर से गई। बहरहालए छेत्री की मेहनत 41वें मिनट में रंग लाई जब उन्होंने लींगडोह द्वारा कॉर्नर किक पर हेडर की बदौलत गोल करके बेंगलुरु को 1-1 से बराबरी दिलाई।

इसके बाद दोनों टीमों ने चार मिनट के भीतर विरोधी टीम के गोल पोस्ट में दो-दो बार एंट्री कीए लेकिन कोई भी बढ़त लेने में सफ ल नहीं हुआ। हाफ टाइम तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर रहीं। हाफ टाइम के चार मिनट बाद छेत्री के पास गोल करने का शानदार मौका आयाए लेकिन वह चूक गए। विनीत ने जोहोर के कप्तान को छकाकर गेंद छेत्री को पास दियाए कप्तान ने हवा के किक उ?ाईए लेकिन बॉल गोलपोस्ट से बहुत दूर गई।

छेत्री ने 66वें मिनट में बॉक्स के बाहर से चार खिलाडिय़ों के ऊपर से शानदार किक जमायाए मलेशियाई क्लब के गोलकीपर बाईं और हवा में उछलेए लेकिन छेत्री के किक को रोक नहीं सके। बेंगलुरु ने इस गोल की बदौलत 2-1 की बढ़त बनाई।

बेंगलुरु की आक्रामकता 75वें मिनट में और बढ़ गई जब जुआन एनटोनियो गोंजालेज फर्नांडेज ने हेडर जमाकर टीम को 3.1 से आगे कर दिया। भारतीय क्लब ने मलेशियाई क्लब को यहां पर मुकाबले से पूरी तरह बाहर कर दिया और फाइनल में शाही अंदाज में प्रवेश किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned