'दिल से निकलनी चाहिए भारत माता की जय, दबाव में नहीं'

Abhishek Tiwari

Publish: Apr, 04 2016 08:57:00 (IST)

Miscellenous India
'दिल से निकलनी चाहिए भारत माता की जय, दबाव में नहीं'

सवाल का जवाब देते हुए कहा कि देश में वंदे मातरम और भारत माता की जय के नारे तो महान स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के समय भी लगते थे

लखनऊ। केंद्रीय संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत माता की जय कहना देश की परंपरा है। लेकिन यह दिल से निकलनी चाहिए। प्रसाद शनिवार को वृन्दावन में साध्वी रितंभरा के वात्सल्य ग्राम में आयोजित नेत्र शिविर के समापन कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए आए थे।

उन्होंने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि देश में वंदे मातरम और भारत माता की जय के नारे तो महान स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के समय भी लगते थे।

रविशंकर प्रसाद का कहना था कि भारत माता की जय हृदय से निकलती है, किसी के दबाव में नहीं। भारत मातृभूमि है, पुण्यभूमि है और यही देश की परंपरा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned