उत्तर भारत में भारी बारिश से कई ट्रेनें रद्द, राहत एवं बचाव कार्य जारी

Miscellenous India
उत्तर भारत में भारी बारिश से कई ट्रेनें रद्द, राहत एवं बचाव कार्य जारी

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने सोमवार और मंगलवार को भी प्रदेश के कुछ हिस्सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। 22 जुलाई तक प्रदेश भर में बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान है।

नई दिल्ली: ओडिशा के तटवर्ती और दक्षिणी क्षेत्र में बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। मौसम विभाग की मानें तो 18 जुलाई तक घनघोर बारिश होगी। नदियों के किनारे के गांव जलमग्न हो गए हैं। राज्य सरकार के अनुरोध पर बाढ़ में राहत एवं बचाव कार्य के लिए भारतीय वायु सेना ने चार हेलीकॉप्टर ओडिशा को उपलब्ध कराए हैं। आदिवासी बहुल जिला रायगढ़ा की हालत खस्ता है। यहां का कल्याणसिंहपुर ब्लाक बुरी तरह से जलमग्न है। गत 15 जुलाई से लगातार बारिश हो रही है।

कई नदियां उफान पर
नागबली और कल्याणी नदी उफान पर हैं। कई गांव उनकी चपेट में आ गए हैं। रेल और सडक़ मार्ग पर सन्नाटा है। ताजी खबर के मुताबिक जलस्तर बढ़ रहा है। बारिश का असर रायगढ़ा, गजपति, गंजाम, नुआपाड़ा, मलकानगिरि, नवरंगपुर में स्पष्ट दिख रहा है। मछुआरों से समुद्र में मछली मारने न जाने की हिदायत दी गई है।


कई ट्रेनें रद्द
रायपुर-विशाखापट्टनम-रायपुर पैसेंजर, दुर्ग विशाखापट्टनम पैसेंजर, संबलपुर कोरापुट पैसेंजर, संबलपुर रायगढ़ा एक्सप्रेस, राउरकेला कोरापुट एक्सप्रेस, दुर्ग जगदलपुर एक्सप्रेस, संबलपुर नांदेद एक्सप्रेस, विलासपुर तिरुपति एक्सप्रेस ट्रेन अगले आदेश तक कैंसल कर दी गई हैं। इसके अलावा धनबाद एक्सप्रेस, निजामुद्दीन विशाखापट्टनम एक्सप्रेस, नांदेद संबलपुर, विशाखापट्टनम एलटीटी, जुनागढ़ रोड एक्सप्रेस का रूट बदल दिया गया है। 

पूरे राज्य में हाई अलर्ट जारी
सडक़ मार्ग से भी आवागमन प्रभावित है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने सवेरे मुख्यसचिव और विशेष राहत आयुक्त से फोन पर जानकारी ली। मौसम विभाग के मुताबिक ओडिशा उत्तर, मध्यक्षेत्र में 19 व 20 जुलाई को भारी बारिश के आसार हैं। पूरे राज्य में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

बिजली गिरने से दो की मौत
ब्रह्मपुर में भारी बारिश के बीच बिजली गिरने से दो किसानों की मौत हो गई। दोनों किसान धान के पौधे रोपने को खेतों पर गए थे। यह घटना गंजाम जिले के बुगुडा गांव की है। मृतकों की पहचान गोविंद प्रधान (65) तथा सुभाष प्रधान (63) के तौर पर हुई है।


हिमाचल में मूसलाधार बारिश का कहर
हिमाचल में मूसलाधार बारिश अब कहर बरपा रही है। बारिश और भूस्खलन से पिछले 48 घंटों के  दौरान प्रदेश में भारी नुकसान हुआ है। बीते दो दिनों में बारिश और बाढ़ से तीन जनों की मौत हो गई है। चंबा के तीसा में बिजली परियोजना के काम में लगी एक जेसीबी ऑपरेटर के साथ ही नाले में बह गई। सोमवार सुबह ऑपरेटर का शव मिला है। कुल्लू में बीते दिन दो स्कूली छात्र ब्यास नदी में बह गए। उनका पता नहीं चला है। 

रामपुर में फटा बादल
रामपुर की फांचा पंचायत के पशगांव नाले में बादल फटने से लकड़ी के तीन पैदल पुल और 4 घाट बह गए हैं। सड़क बहने से आधा दर्जन गांवों का संपर्क कट गया है। पूरे क्षेत्र में बत्ती गुल हो गई है। दूरसंचार सेवाएं प्रभावित हो गई हैं। कई मकानों में मलबा घुस गया है। 

मंडी में मंदिर पर गिरी भारी चट्टान
चंडीगढ़-मनाली एनएच पर मंडी-कुल्लू की सीमा पर नगवाईं में हणोगी मंदिर के मुख्य द्वार को तोड़ती हुई चट्टान अंदर जा घुसी। एक चट्टान साथ लगते भवन को तोड़कर अंदर जा पहुंची। इस से जूस बार और कैंटीन को काफी नुकसान हुआ है। हादसे के वक्त मंदिर में पुजारी, श्रद्धालुओं और स्टाफ समेत करीब 20 लोग मौजूद थे। सभी बाल-बाल बचे। माता की मूर्ति सुरक्षित है। हमीरपुर के नादौन में अवैध खनन में लगा एक ट्रैक्टर ब्यास में बह गया है। तीन लोगों ने भागकर अपनी जान बचाई।

आईटीबीपी-आर्मी जवानों ने बौद्ध मंदिर बहने से बचाया
शिमला। किन्नौर में चीन सीमा से सटे कुन्नोचारंग गांव के राचो नाले में अचानक बाढ़ आने से पानी का रुख रंगरीक टुंगमा बौद्ध मंदिर की ओर हो गया। आईटीबीपी व सेना के जवानों सहित ग्रामीणों ने अस्थायी दीवार बनाकर पानी का बहाव दूसरी तरफ मोड़कर मंदिर को बचा लिया।

प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी
मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने सोमवार और मंगलवार को भी प्रदेश के कुछ हिस्सों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। 22 जुलाई तक प्रदेश भर में बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned