अब 500-1000 के पुराने नोटों से नहीं होगा प्रीमियम भुगतान: बीमा नियामक

Pawan Rana

Publish: Nov, 30 2016 08:44:00 (IST)

Miscellenous India
अब 500-1000 के पुराने नोटों से नहीं होगा प्रीमियम भुगतान: बीमा नियामक

नोटबंदी के बाद रोज नई-नई घोषणाएं की जा रही हैं। अब केवल कुछ ही जगहों पर पुराने नोटों को स्वीकार किया जा रहा है।

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद रोज नई-नई घोषणाएं की जा रही हैं। अब केवल कुछ ही जगहों पर पुराने नोटों को स्वीकार किया जा रहा है। इसी बीच बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने स्पष्ट किया है कि अब बीमा प्रीमियम भुगतान के लिए 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों को स्वीकार नहीं किया जाएगा।

गौरतलब है कि बीमा नियामक ने एक निर्देश इश्यू किया था जिसमें नोटबंदी की 8 नवंबर से घोषणा और 31 दिसंबर तक प्रीमियम भुगतान के लिए 30 दिन का समय दिया था। इसका मतलब यह निकाला गया कि बीमा प्रीमियम के लिए पुराने 500-1000 के नोट लिए जाएंगे। हालांकि अब बीमा नियामक ने स्पष्ट करते हुए कहा है कि पुराने आदेश का मतलब ऐसा नहीं था।

इससे पहले वित्त मंत्रालय ने बताया कि उसे बैंकों के जरिए यह बात पता चली है कि बीते 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद से इन उच्च मूल्य वर्ग के नोटों (500 और 1000 रुपए के नोट) को छोटी बचत योजनाओं के तहत खोले गए खातों में जमा किया जा सकता है। मंत्रालय ने कहा, 'मंत्रालय में इस मामले की जांच हुई और फिर यह तय किया गया कि छोटी बचत योजनाओं के ग्राहकों को 500 और 1000 रुपए के पुराने करेंसी नोट जमा करने के लिए अनुमति नहीं दी जा सकती है।'

आपको बता दें कि छोटी बचत योजनाओ में पोस्ट ऑफिस डिपाजिट, पब्लिक प्रोविडेंट फंड और सुकन्या समृद्धि जैसी योजनाएं आती हैं। इन योजनाओं पर मिलने वाला ब्याज 7.3 फीसदी से 8.5 फीसदी तक होता है। 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि जिन लोगों के पास 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट हैं वो 30 दिसंबर तक अपने पुराने नोट बैंक में जमा और बदल सकते हैं। इसके साथ ही आरबीआई ने 500 और 2000 रुपए का नया नोट भी जारी कर दिया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned