ट्रिपल तलाक हो सकता है खत्म, समर्थन में आया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड

Amanpreet Kaur

Publish: Oct, 19 2016 12:53:00 (IST)

Miscellenous India
ट्रिपल तलाक हो सकता है खत्म, समर्थन में आया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड

अगर एक सांस में ट्रिपल तलाक सही तो फिर मोहम्मद साहब के समय क्यों नहीं हुए?

नई दिल्ली। शिया पर्सनल लॉ बोर्ड अब ट्रिपल तलाक को खत्म करने के समर्थन में आ गया है। शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने कहा कि अगर एक सांस में ट्रिपल तलाक सही तो फिर मोहम्मद साहब के समय क्यों नहीं हुए? गौरतलब है कि देशभर में तीन बार तलाक बोलकर रिश्ता खत्म करने पर बहस छिड़ी हुई है।

मौलाना अब्बास ने कहा - जिस मसले पर अभी बात हो रही है, वह बेहद गलत तरीके सेपेश किया जा रहा है। ट्रिपल तलाक गलत है और इससे मुस्लिम महिलाओं का उत्पीडऩ हो रहा है। कुरान पाक, हदीस या किसी भी जगह पर ऐसा नहीं लिखा है कि एक सांस में आप तीन तलाक कहें और रिश्ता खत्म हो जाएगा। तीन क्या तीन लाख बार भी अगर आप तलाक कहते रहेंगे तो भी इससे शादी खत्म नहीं होती। जो ट्रिपल तलाक के हिमायती हैं उनसे केवल एक बात पूछना चाहता हूं कि अगर यह सही है तो फिर मोहम्मद साहब के समय में इस तरह के तलाक क्यों नहीं हुए? वह बता दें कि कितने तलाक मोहम्मद साहब के समय में तीन बार तलाक कहकर हुए। वह ए भी उदाहरण दे सकें तो मैं धर्म बदल लूंगा।

मौलाना अब्बास ने बताया कि 2007 में मुंबई अधिवेशन में हमने इस बारे में तकरीर की थी और तब इसे गलत बताया था। हमारे यहां निकाह और तलाक दोनों ही गवाह की मौजूदगी में होते हैं। निकाह में तो फिर भी गवाह का होना उतना जरूरी नहीं है, लेकिन तलाक तो बिना गवाहों के नहीं हो सकता। इसके लिए गवाह भी ऐसे चाहिए होते हैं जिनकी समाज में कोई इज्जत हो, लेकिन न जाने क्यों इस तरह की गलत चीजों को कुछ लोग पकड़े बैठे रहना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि हम तो हमेशा चाहते थे कि इस मामले पर बात हो। हमने इसकी पहल भी की। मैंने एक मॉडल तैयार किया। यह मॉडल हदीस, कुरान पाक और इंसानियत पर आधारित था। इसे लेकर मैं जफरयाब जिलानी और डॉ. कल्बे सादिक के पास गया। उनके सामने यह मॉडल भी रखा और उनसे फरियाद की कि वह इसे देखें। अगर सही हो तो इसे लागू करें। उस समय उन्होंने गौर करने की बात कही थी, लेकिन कोई साफ जवाब नहीं दिया। अब जिस तरह की बात सामने आ रही है, उससे उनका स्टैंड क्लीयर हो गया है। मैं उनके स्टैंड को इस्लाम की रोशनी में सही नहीं मानता।   

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned