समुद्र में रहता था डायनासोर से भी बड़ा और खतरनाक जानवर, शोधकर्ताओं ने बताया अब तक की सबसे बड़ी खोज

Miscellenous World
समुद्र में रहता था डायनासोर से भी बड़ा और खतरनाक जानवर, शोधकर्ताओं ने बताया अब तक की सबसे बड़ी खोज

इस शोध में एक खुलासा और हुआ है जिसमें यह बात स्पष्ट हुई है कि डायनासोर सिर्फ अंडे ही नहीं बल्कि बच्चों को भी जन्म दिया करते थे. इससे पहले कहा जाता था कि डायनासोर कभी गर्भधारण नहीं करते थे, वो सिर्फ अंडा देते थे...

अगर आप अभी तक यही सोच रहे हैं दुनिया का सबसे बड़ा और खतनाक जानवर डायनासोर ही था तो हम आपको बता रहे हैं कि हाल ही में वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने डायनासोर के ही प्रजाति के एक जानवर के जीवाश्म की खोज की है। शोधकर्ताओं के अनुसार यह जानवर डायनासोर से भी बड़ा था और पानी की गहराई में पाया जाता था।

इस शोध में एक खुलासा और हुआ है जिसमें यह बात स्पष्ट हुई है कि डायनासोर सिर्फ अंडे ही नहीं बल्कि बच्चों को भी जन्म दिया करते थे. इससे पहले कहा जाता था कि डायनासोर कभी गर्भधारण नहीं करते थे, वो सिर्फ अंडा देते थे। लेकिन अब इस बात का खुलासा हो गया कि डायनसोर भी गर्भधारण करते थे।
हेफी यूनिवर्सिटी की जुन ल्यू, जो इस खोज से जुड़े हुई हैं बताते हैं कि पहले तो हम बहुत उत्साहित हो गए थे कि हमें इतने पुराने प्रेग्नेंट जानवर का फॉसिल मिला है, लेकिन बाद में हमें लगा कि ये मौत से पहले उसके पेट में रह गया खाना भी हो सकता है। हालांकि इस फॉसिल पर रिसर्च जारी है। इस खोज से जुड़े सभी वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे डायनासोर युग के बारे में और बेहतर तरीके से जानने में मदद मिलेगी।
Image may contain: swimming
हेफी यूनिवर्सिटी की जुन ल्यू, जो इस खोज से जुड़े हुई हैं बताते हैं कि पहले तो हम बहुत उत्साहित हो गए थे कि हमें इतने पुराने प्रेग्नेंट जानवर का फॉसिल मिला है, लेकिन बाद में हमें लगा कि ये मौत से पहले उसके पेट में रह गया खाना भी हो सकता है। हालांकि इस फॉसिल पर रिसर्च जारी है। इस खोज से जुड़े सभी वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे डायनासोर युग के बारे में और बेहतर तरीके से जानने में मदद मिलेगी।
हेफी यूनिवर्सिटी की जुन ल्यू, जो इस खोज से जुड़े हुई हैं बताते हैं कि पहले तो हम बहुत उत्साहित हो गए थे कि हमें इतने पुराने प्रेग्नेंट जानवर का फॉसिल मिला है, लेकिन बाद में हमें लगा कि ये मौत से पहले उसके पेट में रह गया खाना भी हो सकता है। हालांकि इस फॉसिल पर रिसर्च जारी है। इस खोज से जुड़े सभी वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे डायनासोर युग के बारे में और बेहतर तरीके से जानने में मदद मिलेगी।

शोधकर्ताओं ने जिस जानवर के जीवाश्म की खोज की है उस जानवर की लंबी सी गर्दन हुआ करती थी और इसका नाम डाइनोसेफालोसॉरस था।

बताया जा रहा है कि यह एक तरह का ख़ास जानवर था जो डायनासोर से भी बड़ा और खतरनाक था. इसकी प्रजाति डायनासोर से भी सैकड़ों वर्ष पहले पाई जाती थी। ये जानवर ‘आर्कोसारोमार्फ्स’ प्रजाति का सबसे पहला जानवर है। डायनासोर भी इसी प्रजाति का जानवर है।

Image may contain: water
शोधकर्ताओं के अनुसार डाइनोसेफालोसॉरस नाम का यह जानवर आज से लगभग 24.5 करोड़ साल पहले धरती पर हुआ करता था। इसके शरीर की लंबाई का अंदाजा आप सिर्फ इसी बात से लगा सकते हैं कि इसकी गर्दन ही 6 मीटर(लगभग18 फुट) लंबी थी। ये जानवर अभी के साउथ चीन के समंदर में रहता था। इस जानवर का जीवाश्म अब तक की सबसे दुर्लभ खोजों में से एक है।
Image result for dainasor
इस खोज में अहम योगदान देने वाली हेफी विश्वविद्यालय की जउन ल्यू का कहना है कि इस शोध से हम काही उत्साहित हो गए थे।हमें इतने पुराने प्रेग्नेंट जानवर का फॉसिल मिला है, लेकिन बाद में हमें लगा कि ये मौत से पहले उसके पेट में रह गया खाना भी हो सकता है। इस फॉसिल पर अभी खोज जारी है। शोधकर्ताओं के अनुसार जानवरों के जीवाश्म की खोज में यह अब तक सबसे बड़ी खोजों में से एक है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned